शैक्षिक प्रबन्धन हस्तलिखित नोट्स । School Management Notes

School Management Notes in Hindi, Utkarsh Coaching School Management Notes PDF, School Management Notes PDf, Download School Management Notes, शैक्षिक प्रबंधन नोट्स pdf, School Management Handwritten Notes PdF

 
स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा से सम्बंधित विभिन्न कोचिंग संस्थानों के शैक्षिक प्रबन्धन के हस्तलिखित नोट्स डाउनलोड करने के लिए नीचे लिंक दिया गया है जिसपर क्लिक करके नोट्स की पीडीएफ फाइल डाउनलोड कर सकते है
 
★ उत्कर्ष क्लासेज जोधपुर :-
विषय – शैक्षिक प्रबन्धन
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 15 MB
पेज – 75
 डाउनलोड पीडीएफ  –   Click Here 
 
 
★ नोट्स 2 :-
विषय – शैक्षिक प्रबन्धन
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 30 MB
पेज – 86
 डाउनलोड पीडीएफ   –   Click Here  
 
 
★ नोट्स 3 :-
विषय – शैक्षिक प्रबन्धन
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 17 MB
पेज – 80
 डाउनलोड पीडीएफ   –   Click Here  
 
 
 
★ RTE Act 2009 :-
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 1 MB
पेज – 16
 डाउनलोड पीडीएफ   –   Click Here

 

 
शैक्षिक प्रबंधन :- 
                      शैक्षिक प्रबंधन शिक्षा के क्षेत्र में प्रस्तुत एक नवीन अवधारणा है । सामान्यत : शिक्षा के क्षेत्र में की जाने वाली व्यवस्था ही शैक्षिक प्रबंधन कहलाती है । यहाँ ‘ शैक्षिक ‘ शब्द से हमारा तात्पर्य ‘ शिक्षा ‘ से एवं प्रबंधन शब्द का तात्पर्य ‘ व्यवस्था ‘ से ग्रहण किया जाता है अर्थात् शिक्षा से संबंधित सम्पूर्ण व्यवस्था ही शैक्षिक प्रबंधन कहलाती है । 
 
 
प्रबंधन की परिभाषाएँ :- 
1 . फ्रेडरिक डब्ल्यू . टेलर के अनुसार – ‘ क्या करना है और करने का सुलभ एवं सर्वोत्तम तरीका क्या है , इसे जानना ही प्रबंधन कहलाता है । ‘ 
2.  एनसाइक्लोपीडिया ( विश्व ज्ञान कोश ) के अनुसार – संगठन या प्रबंधन का संबंध उन क्रियाओं के ढाँचे अथवा संरचना के निर्माण से है , जिनसे अपेक्षित तथ्यों की प्राप्ति की जा सकती है । ‘ 
3.  पीटर डेकर के अनुसार – ” प्रबंधन गतिशील जीवनदायक तत्त्व है जिसके नेतृत्व के अभाव में उत्पादन के साधन केवल साधन बनकर रह जाते हैं । ‘ 
4.  हिनरी फेयोल के अनुसार – ‘ प्रबंधन का अर्थ पूर्वानुमान लगा योजना बनाना , संगठन करना , निर्देशन करना , समन्वय करना तथा नियंत्रण करना है । ‘ 
5 . चार्ल्स रेनॉल्ड के अनुसार – ‘ सामूहिक प्रयासों की व्यवस्था का नाम ही प्रबंधन है ।
 
 
शैक्षिक प्रबंधन की परिभाषा :-
1 . जे . डी . मुने के अनुसार – सामान्य उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए बनी प्रत्येक मानवीय संस्था को ही शैक्षिक प्रबंधन कहा जा सकता है । 
2 . जी. ई . मिलवर्ड के अनुसार – शैक्षिक प्रबंधन वह प्रक्रिया व एजेंसी है जिसके माध्यम से नीतियों के क्रियान्वयन का आयोजन तथा पर्यवेक्षण किया जाता है । 
 3 , लूथर गुलिक के अनुसार – ” शैक्षिक प्रबंधन सत्ता का औपचारिक ढाँचा है जिसके अन्तर्गत निश्चित उददेश्यों की प्राप्ति के लिए विभागीय कार्यों का क्रमबद्ध रूप में विभाजन करना , परिभाषित करना तथा समन्वित करना सम्मिलित होता है । ” 
4 . जेवी , सीयर्स के अनुसार – ‘ ‘ ऐसी प्रक्रिया जिसका संबंध सम्पूर्ण शैक्षिक कार्यक्रमों के सफल संचालन से हो उसके व्यावहारिक रूप को ही शैक्षिक प्रबंधन कहा जाता हैं । 
5 . पिफनर के अनुसार – ‘ ‘ शैक्षिक प्रबंधन का तात्पर्य व्यक्तियों का व्यक्तियों के बीच , वर्गों का वर्गों के बीच उन संबंध को आयोजित कना है जिससे श्रम का क्रमबद्ध विभाजन किया जाता है । ‘
6 . डिमॉक के अनुसार – ” शैक्षिक प्रबंधन का तात्पर्य आवश्यक मानव संसाधनों , सामग्री तथा साज – सज्जा की अनेक वस्तुओं को इस प्रकार क्रमबद्ध तथा प्रभावशाली ढंग से जुटाना है जिससे वांछित उद्देश्यों की अधिकतम प्राप्ति हो सके ।

 

 शैक्षिक प्रबंधन की प्रमुख विशेषताएं –
● शैक्षिक प्रबंधन एक उद्देश्यपूर्ण प्रक्रिण है ।
● शैक्षिक प्रबंधन एक निरन्तर चलने वाली सार्वभौमिक प्रक्रिया है , क्योंकि संगठन के प्रत्येक स्तर पर इसकी आवश्यकता पढ़ती है ।
● शैक्षिक प्रबंधन एक जन्मजात प्रतिभा है ।
● शैक्षिक प्रबंधन एक मानवीय एवं सामाजिक प्रक्रिया है ।
● शैक्षिक प्रबंधन कला और विज्ञान दोनों है ।
● शैक्षिक प्रबंधन में विशेषज्ञतापूर्ण ज्ञान का होना आवश्यक है ।
● शैक्षिक प्रबंधन एक अदृश्य कौशल है , क्योंकि कार्य की सफलता और असफलता पर ही इसका दर्शन होता है ।
● शैक्षिक प्रबंधन सामूहिक रूप से मानवीय प्रयास का प्रतिफल है ।
● शैक्षिक प्रबंधन एक समन्वित प्रक्रिया है , क्योंकि इसमें गानवीय एवं भौतिक संसाधनों में तालमेल वैवाने की जाती है ।
●  शैक्षिक प्रबंधन सूक्ष्म या अमूर्त होता है ।
● शैक्षिक प्रबंधन उपलब्ध भौतिक संसाधनों के अधिकतम उपयोग पर बल देता है ।
● शैक्षिक प्रबंधन का दायित्व काम करवाना है ।
● शैक्षिक प्रबंधन में समन्वित दृष्टिकोण पाया जाता है ।
● शैक्षिक प्रबंधन एक समन्वयकारी व्यवस्था है ।
● शैक्षिक प्रबंधन सहकारी योगदान पर सफल होता है ।

 
 
शैक्षिक प्रबंधन के कार्य :-
 लोक प्रशासन के महान विचारक लूथर गुलिक ने स्वरचित ‘ पैपर्स ऑन द साइंस ऑबु एडमिनिस्ट्रेशन ( 1937 ई . ) में प्रबंधन के सात कार्यों का निर्धारण किया है , जिसे POSDCORB के नाम से जाना जाता है । यह शब्द अंग्रेजी के सात शब्दों के प्रथम अक्षरों से बनाया गया है । यथा
 1 . P –  Planning – योजना बनाना
2.  O  –  Organizing – संगठन बनाना
3.  S  –  Staffing – कर्मचारियों की व्यवस्था करना
4.  D  –  Directing – निर्देशन करना
5 . Co – Co – ordinating – समन्वय करना
6 , R  –  Reporting – सूचना देना
7 . B  –  Budgeting – बजट बनाना
 इन सात शब्दों से निम्नलिखित क्रियाओं का बोध होता है
1 . पी – योजना बनाना :- इसका उद्देश्य कार्यों की रूपरेखा तैयार करना और निश्चित ध्येय की प्राप्ति के लिए रीतियों का निर्धारण करना माना जाता है ।
2 , ओ – संगठन बनाना : इसका उद्देश्य प्रबंधात्मक ढाँचे को इस प्रकार संगठित करना है कि प्रबंधनात्मक कार्यों का विभाजन उचित ढंग से किया जा सके और विभाग या संस्थान में समन्वय किया जा सके ।
3 . एस – कर्मचारियों की व्यवस्था करना : इसके अन्तर्गत स्टाफ अर्थात् सम्पूर्ण कर्मचारी वर्ग की नियुक्ति , प्रशिक्षण और उनके लिए कार्य करने की अनुकूल दशाओं का निर्माण करना शामिल हैं ।
4 , डी – निर्देशन करना : इसके अन्तर्गत वे निर्णय आते हैं , जो निर्णायकों द्वारा कर्मचारियों के कार्यों के संबंध में लिये जाते हैं । ये निर्णय सामान्य आदेशों के रूप में सन्निहित करके प्रशासकीय कर्मचारियों तक पहुँचाये जाते हैं ।
5 . को – समन्वय करना : इसका उद्देश्य कार्य के विभिन्न भागों को परस्पर संबंधित करना तथा उनमें समन्वय स्थापित करना माना जाता हैं ।
6 . आर – सूचना देना : इसका उद्देश्य वरिष्ठ तथा निम्न कर्मचारियों के कार्यों के संबंध में निरीक्षण अधिकारियों को सूचित रखना एवं निरीक्षण के लिए अभिलेख / प्रतिवेदन तैयार करना है ।
7 . बी – बजट तैयार करना : इसके अन्तर्गत वित्त व्यवस्था का संक्षिप्त अध्ययन या बजट तैयार किया जाता हैं ।
 
शैक्षिक प्रबंधन के प्रमुख सिद्धान्त :-
1 . नियोजन का सिद्धान्त – एक कुशल प्रबंधक वही माना जाता है , जो प्रत्येक कार्य एक पूर्व निश्चित योजना के अनुसार करता है , क्योंकि यदि संगठन के कार्य पूर्व नियोजित कर लिये जाते हैं तो इससे विभिन्न इकाइयों में संतुलन स्थापित हो जाता है ।
2 . श्रम विभाजन का सिद्धान्त – प्रबंधक को अपने अधीनस्थों की योग्यता एवं क्षमता के अनुसार कार्यों का विभाजन कर देना चाहिए ताकि उनमें उत्तरदायित्व का निर्धारण किया जा सके ।
3 . संतुलन या समन्वय का सिद्धान्त – प्रबंधक को अपने सभी मानवीय एवं भौतिक संसाधनों के मध्य संतुलन स्थापित करना चाहिए जिससे संगठन अपने लक्ष्यों को शीघ्र प्राप्त कर सके ।
4 . उत्तरदायित्व एवं अधिकार का सिद्धान्त – प्रबंधक को अपने अधीनस्थ कार्मिकों को समुचित अधिकार सौंपने चाहिए । एवं उनके साथ – साथ उत्तरदायित्व ( जवाबदेही ) भी सौंपनी चाहिए ताकि वे अधिकारों का दुरुपयोग न कर सकें ।
5 . सहभागिता का सिद्धान्त – प्रबंधक को प्रत्येक स्तर पर एवं प्रत्येक कार्य में अधीनस्थ कार्मिकों को सहयोग एवं सुझाव देते रहना चाहिए ताकि उनका मनोबल बढ़ सके ।
6 . नेतृत्व का सिद्धान्त – नेतृत्व के बिना संगठन बिना नाविक की नाव के समान होता है । नेतृत्व कुशलता होने पर ही प्रबंधक अधीनस्थों का सहयोग प्राप्त कर सकता है ।
7 . अपवाद का सिद्धान्त – प्रत्येक प्रबंधक को अपने अधिकारों का उचित सीमा में ही प्रयोग करना चाहिए ।
8 . पारिश्रमिक का सिद्धान्त – प्रबंधक के द्वारा प्रत्येक कार्मिक को न्यायसंगत एवं संतोषजनक पारिश्रमिक दिया जाना चाहिए ताकि वह पारिवारिक चिंताओं से मुक्त होकर कार्य कर सके ।
9 . आदेश एवं निर्देश की एकता का सिद्धान्त – प्रत्येक अधीनस्थ को उसके एक उच्चाधिकारी से ही आदेश / निर्देश मिलना चाहिए । नोट – एकता के अभाव वाली संस्थाओं को दो सिर वाले राक्षसी शरीर के समान माना जाता है ।
10 . अनसंधान , प्रयोग या शोध का सिद्धान्त – नित्य नवीन विधियों , युक्तियों या तरीकों की खोज करने वाला प्रबंधक ही उच्च कुशलता प्राप्त कर सकता है ।
11 . समानता का सिद्धान्त – प्रबंधक को अपने सभी कार्मिकों के साथ बिना किसी भेदभाव के समानता का व्यवहार करना चाहिए ।

 

 
 
 
★ उत्कर्ष क्लासेज जोधपुर :-
विषय – शैक्षिक प्रबन्धन
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 15 MB
पेज – 75
 डाउनलोड पीडीएफ  –   Click Here 
 
 
 
 
★ नोट्स 2 :-
विषय – शैक्षिक प्रबन्धन
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 30 MB
पेज – 86
 डाउनलोड पीडीएफ   –   Click Here  
 
 
 
 
★ नोट्स 3 :-
विषय – शैक्षिक प्रबन्धन
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 17 MB
पेज – 80
 डाउनलोड पीडीएफ   –   Click Here  
 
 
 
 
 
★ RTE Act 2009 :-
माध्यम – हिन्दी
प्रारूप – पीडीएफ
आकार – 1 MB
पेज – 16
 डाउनलोड पीडीएफ   –   Click Here

 

School Management Notes in Hindi, Utkarsh Coaching School Management Notes PDF, School Management Notes PDf, Download School Management Notes, शैक्षिक प्रबंधन नोट्स pdf

Download All Subject Notes & Important Question

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top