संस्कृत शिक्षण विधि वस्तुनिष्ठ प्रश्न | Sanskrit Teaching Methods Question

Sanskrit Teaching Methods Question: शिक्षण विधियों की इस पोस्ट में संस्कृत शिक्षण विधि के महत्वपूर्ण प्रश्नों का संग्रह दिया गया है जो सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बेहद ही उपयोगी एवं महत्वपूर्ण है

[1] ‘गद्यं कवीनां निकषं वदन्ति’ कथन किसका है
(1) मम्मट
(2) वामन✓
(3) भरतमुनि
(4) दण्डी

[2] नाटक शिक्षणस्य सर्वोत्तमः विधिः अस्ति
(1) व्याख्या
(2) समवाय✓
(3) कक्षाभिनय
(4) रंगमंचाभिनय

[3] संस्कृत में निगमन विधि के प्रतिपादक हैं
(1) पाणिनि
(2) कात्यायन
(3) उक्त सभी
(4) पतंजलि✓

[4] आगमन विधि के सोपान होते हैं
(1) 2
(2) 4✓
(3) 5
(4) 3

[5] आगमन प्रणाली के रूप होते हैं
(1) 4
(2) 2✓
(3) 5
(4) 3

[6] सूक्ष्म शिक्षणे शिक्षयते
(1) कौशलानां विकासः✓
(2) विभिन्नविधिप्रयोगः
(3) पदार्थबोधः
(4) भावावबोधः

[7] खण्डान्वयविधिः मूलतः कस्य शास्त्रस्य सिद्धांतेषु आधारितः
(1) न्यायशास्त्र
(2) व्याकरण
(3) मीमांसाशास्त्र✓
(4) दर्शनशास्त्र

[8] व्याकरण शब्दे प्रत्ययः अस्ति
(1) घञ्
(2) ल्युट्✓
(3) ण्वुल्
(4) ल्यप्

[9] “घटे समुद्रपूरणम् ” कथ्यते
(1) पारायण विधि
(2) सूत्र विधि✓
(3) भाषा संसर्ग विधि
(4) पाठ्यपुस्तक विधि

[10] भाषा प्रयोगशाला का अनुभाग नहीं है
(1) दूरदर्शन प्रकोष्ठ✓
(2) नियंत्रण प्रकोष्ठ
(3) श्रवण प्रकोष्ठ
(4) परामर्शदाता प्रकोष्ठ

[11] ‘संपूर्णाद् अंशं प्रति’ कस्य शिक्षणसूत्रम्
(1) वार्षिक योजना
(2) इकाई योजना✓
(3) मासिक योजना
(4) पाठयोजना

[12] छात्रैः न क्रियते
(1) मौनवाचनम्
(2) अनुकरणवाचनम्
(3) आदर्शवाचनम्✓
(4) सामूहिकवाचनम्

[13] फ्रोबेल कहाँ के निवासी थे
(1) जर्मनी✓
(2) इटली
(3) अमेरिका
(4) भारत

[14] मानव अभिव्यक्ति की मौलिक प्रक्रिया कहलाती है
(1) गद्य✓
(2) पद्य
(3) दोनों
(4) दोनों ही नहीं

[15] अन्वयस्य प्रथमो भेदः अस्ति
(1) शब्दान्वयः
(2) अर्थान्वयः
(3) दण्डान्वयः✓
(4) खण्डान्वयः

[16] प्रश्नोत्तर या खंडान्वय विधि का मूल उद्गम स्रोत है
(1) योग्यता
(2) आकांक्षा✓
(3) सन्निधि
(4) अन्विति

[17] हिन्दी भाषा है
(1) विमर्शनात्मक
(2) संश्लेषणात्मक
(3) संरचनात्मक
(4) विश्लेषणात्मक✓

[18] किसके नियम इष्टि कहलाते हैं
(1) उक्त सभी
(2) पाणिनि
(3) पतंजलि✓
(4) कात्यायन

[19] सूक्ष्म शिक्षण में कक्षा का आकार होता है
(1) 20-25
(2) 15-18
(3) 5-10✓
(4) 10-20

[20] जीवन केंद्रित शिक्षा सिद्धांत के प्रतिपादक हैं
(1) महात्मा गांधी
(2) जाॅन ड्यूवी
(3) फ्रोबेल✓
(4) हरबर्ट स्पेंसर

[21] निगमन विधि का प्रयोग किस स्तर के लिए उपयोगी है
(1) प्राथमिक
(2) उच्च स्तर✓
(3) माध्यमिक
(4) उच्च प्राथमिक

[22] निगमन प्रणाली के रूप होते हैं
(1) 3
(2) 4
(3) 5
(4) 2✓

[23] प्रत्यक्षविधेः कौशले स्तः
(1) श्रवणं लेखनं च
(2) पठनं लेखनं च
(3) भाषणं लेखनं च
(4) श्रवणं भाषणं च✓

[24] त्रिभाषा सूत्रे संस्कृतस्य स्थानं अस्ति
(1) अनिवार्यम्
(2) आवश्यकम्
(3) नास्त्येव
(4) वैकल्पिकम्✓

[25] लिखिताभिव्यक्तिः कस्मिन् न भवति
(1) जीवनीलेखने
(2) पत्रलेखने
(3) वादविवादे✓
(4) निबंधलेखने

[26] रेखीय अभिक्रमित अनुदेशन में पदों को प्रकृति के आधार पर कितने भागों में बाँटा जा सकता है
(1) 3
(2) 5
(3) 6
(4) 4✓

[27] सूत्र कितने प्रकार के होते हैं
(1) 4
(2) 5
(3) 3
(4) 6✓

[28] मौनवाचन कब शुरू करना चाहिए
(1) दूसरी से
(2) तीसरी से✓
(3) छठी से
(4) चौथी से

[29] पद्यशिक्षणस्य प्रमुखः अंगः अस्ति
(1) पठनबोधः
(2) शब्दार्थबोधः
(3) सरलार्थबोधः
(4) भावबोधः✓

[30] श्लोक में आये हुए प्रत्येक शब्द को पाँच बार पढ़ना कहलाता है
(1) पंचवार अध्ययन✓
(2) पंचरूप अध्ययन
(3) पंचक अध्ययन
(4) उक्त सभी

Download Teaching Methods Notes PDF
Sanskrit Teaching Methods Question

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top