RPSC 2nd Grade Hindi Syllabus

Join WhatsApp GroupJoin Now
Join Telegram GroupJoin Now

nd Grade Hindi Subject Syllabus: इस पोस्ट में राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित द्वितीय श्रेणी अध्यापक भर्ती परीक्षा के पाठ्यक्रम और परीक्षा पैटर्न से संबंधित जानकारी उपलब्ध करवाई गई है। यदि आप वरिष्ठ अध्यापक भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो यह सिलेबस आपके लिए बेहद ही उपयोगी एवं महत्वपूर्ण है। इसमें सिलेबस तथा exam pattern उपलब्ध करवाया गया है। RPSC 2nd Grade Hindi Syllabus , rpsc 2nd grade syllabus hindi, RPSC 2nd Grade Hindi Exam Pattern, rpsc 2nd grade hindi subject syllabus, 2nd grade teacher syllabus 2021 in hindi,

RPSC 2nd Grade Hindi Syllabus
BoardRajasthan Public Service Commission
Exam NameRPSC 2nd Grade Exam
CategorySyllabus
SubjectPaper – II (Hindi)
Official Websiterpsc.rajasthan.gov.in
India GK Zone HomeClick Here

RPSC 2nd Grade Hindi Exam Pattern

1. प्रश्न पत्र अधिकतम 300 अंकों का होगा।
2. प्रश्न पत्र की अवधि दो घंटे तीस मिनट की होगी।
3. प्रश्न पत्र में बहुविकल्पीय 150 प्रश्न होंगे।
4. पेपर में माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक मानक का ज्ञान प्रासंगिक विषय वस्तु के बारे में, स्नातक मानक का ज्ञान, विषय के शिक्षण के तरीके आदि विषयों को शामिल किया जाएगा
5. सभी प्रश्नों के अंक समान हैं।
6. निगेटिव मार्किंग होगी।

SubjectMarks
Knowledge of Secondary and Sr. Secondary Standard
about relevant subject matter.
180 Marks
Knowledge of Graduation Standard about
relevant subject matter.
80 Marks
Teaching Methods of relevant subject.40 Marks
Total300 Marks

RPSC 2nd Grade Hindi Syllabus

माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्तर

Part – (i) अंक – 180

अ) वर्ण विचार – स्वर व व्यंजनों के प्रकार – प्रयत्न और स्थान की दृष्टि से।
● शब्द विचार – तत्सम, तद्भव, देशज व विदेशी शब्द ।
● विकारी शब्द – संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रियाओं के भेद एवम् उदाहरण ।
● अविकारी शब्द – अव्यय के भेद व उदाहरण ।
● वाक्य रचना – वाक्य में शब्दों के क्रम, वाक्य भेद, आश्रित उपवाक्य के भेद व उदाहरण ।
● शब्द रचना – समास, संधि, उपसर्ग व प्रत्यय के भेद ।
● शब्द ज्ञान – पर्यायवाची शब्द, विलोम शब्द, अनेकार्थ शब्द, समानोच्चारित शब्द (युग्म – शब्द), वाक्यांश के लिए एक शब्द।
● शुद्ध लेखन – वर्तनी की शुद्धता और वाक्यगत अशुद्धियों का सुधार ।
● भाषा ज्ञान – मुहावरे व कहावतें, अपठित गद्यांश/पद्यांश आधारित प्रश्न ।
● राष्ट्रभाषा, राजभाषा, खड़ी बोली/देवनागरी लिपि के सुधार का इतिहास ।

आ) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजसथान, अजमेर के नवीनतम सत्र के पाठ्यक्रम में समाहित समस्त रचनाकारो से बारहवीं तक अनिवार्य हिन्दी एवं ऐच्छिक हिन्दी की समस्त पद्य एवं गद्य रचनाओं का समसावेश पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा।

स्नातक स्तरीय हिन्दी भाषा का ज्ञान

Part – (ii) – अंक – 80

अ) – शब्द शक्तियों के भेद व उदाहरण ।
● काव्य की रीतियांँ, काव्य गुण, काव्यदोष (श्रुतिकटुत्व, ग्राम्यत्व, अप्रतीत्व, क्लिष्टत्व, अक्रमत्व तथा दुष्क्रमत्व)
● अलंकार – श्लेष, यमक, उपमा, रूपक, उत्प्रेक्षा, विभावना, असंगति, संदेह, भ्रांतिमान, विरोधाभास व मानवीकरण ।
● छंद – दु्रतविलम्बित, हरिगीतिका, कवित्त, सवैया, दोहा, सोरठा व चौपाई ।
● रस – रस का स्वरूप तथा रसावयव ।

(आ) – हिन्दी साहित्य के इतिहास का नामकरण, कालविभाजन, प्रमुख प्रवृत्तियाँ एवं रचना व रचनाकार ।
● हिन्दी भाषा का उद्भव एवं विकास, हिन्दी एवं उसकी बोलियों का सामान्य परिचय ।
● कबीर ग्रन्थावली – साखी – प्रथम 5 अंग एवं 10 पद (सम्पादक श्यामसुन्दर दास)
● तुलसीदास – रामचरितमानस (बालकाण्ड)
● सूरदास – भ्रमरगीतसार (प्रथम 20 पद – रामचन्द्र शुक्ल)
● मीरांबाई – मीरां पदावली (प्रथम 20 पद – परशुराम चतुर्वेदी)
● बिहारी रत्नाकर – (प्रथम 20 दोहे)
● सूर्यमल्ल मिश्रण – वीर सतसई (प्रथम 20 दोहे)
● रामधारी सिंह दिनकर – कुरूक्षेत्र (प्रथम सर्ग)
● जयशंकर प्रसाद – कामायनी (आनन्द सर्ग)
● अज्ञेय – असाध्य वीणा (‘आँगन के पार द्वार’ से)
● आचार्य रामचन्द्र शुक्ल – (चिन्तामणि – भाग-1 केवल उत्साह, श्रद्धा, भक्ति, लोभ और प्रीति)
● मोहन राकेश – लहरों के राजहंस
● कहानियाँ – ‘उसने कहा था’ चन्द्रधर शर्मा गुलेरी
● ‘जहाँ लक्ष्मी कैद है’ राजेन्द्र यादव
● ‘एक और जिन्दगी’ मोहन राकेश
● ‘परिन्दे’ निर्मल वर्मा

हिन्दी विषय शिक्षण विधिया

Part – (iii) – अंक – 40

(अ) 1. अनुकरणात्मक विधि 2. इकाई विधि
3. प्रत्यक्ष विधि 4. व्याकरण – अनुवाद विधि
5. द्विभाषी पद्धति 6. सैनिक विधि
7. ध्वन्यात्मक विधि 8. दूरस्थ शिक्षण
9. वाचन-विधि 10. पर्यवेक्षित अध्ययन विधि
11. आगमन-निगमन विधि 12. अभिक्रमित अनुदेशन विधि
13. रसास्वादन विधि 14. सूत्र विधि
15. भाषा – संसर्ग विधि 16. भाषा शिक्षण यंत्र – उपकरण विधि
17. साहचर्य विधि 18. व्याख्यान – विधि
19. प्रदर्शन विधि 20. श्रुतलेखन – अभ्यास विधि
21. दल-शिक्षण विधि 22. भाषा – प्रयोगशाला विधि
23. व्यतिरेकी विधि 24. हरबर्टीय विधि
25. समवाय विधि

आ) भाषा शिक्षण के प्रमुख शिक्षण-कौशल, सूक्ष्म शिक्षण योजना, इकाई पाठ योजना की अवधारणा एवं प्रारूम का व्यावहारिक ज्ञान, शिक्षण सहायक सामग्री का कक्षा शिक्षण में उपयोग, भाषा शिक्षण में सतत् एवं व्यापक मूल्यांकन।