राजस्थान की स्थिति, विस्तार एवं भौगोलिक प्रदेश | Rajasthan ki Sthiti Vistar, Bhotik Pardesh

Rajasthan ki Sthiti Vistar, Bhotik Pardesh, Rajasthan ka bhugol Notes PDF, राजस्थान की स्थिति, विस्तार एवं भौगोलिक प्रदेश, Rajasthan Geography Notes In Hindi PDF, Rajasthan GK Notes PDF

राजस्थान की स्थिति, विस्तार एवं भौतिक प्रदेश, Rajasthan ki Sthiti Vistar, Bhotik Pardesh

राजस्थान की स्थिति, विस्तार एवं भौतिक प्रदेश (Rajasthan ki Sthiti Vistar avm Bhotik Pardesh / Rajasthan Bhotik Pardesh ) राजस्थान भारत के उत्तर – पश्चिम में स्थित है तथा क्षेत्रफल की दृष्टि से देश का सबसे बड़ा राज्य (1 नवम्बर, 2000 को मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ के अलग होने के बाद) है । इसका क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी (132140 वर्ग मील) है , जो भारत के कुल क्षेत्रफल का 10.41 % है ।

● राज्य के मध्य में उत्तर-पूर्व से दक्षिण-पश्चिम तक फैली अरावली पर्वतमाला इसे जलवायु एवं भू – धरातल की दृष्टि से दो असमान भागों में विभाजित करती है । राजस्थान की भौगोलिक स्थिति को निम्न प्रकार समझा जा सकता है:-

राजस्थान की स्थिति (Rajasthan ki Sthiti Vistar)

अक्षांशीय स्थिति

23°3 ‘ उत्तरी अक्षांश से 30°12 ‘ उत्तरी अक्षांश

( अक्षांशीय विस्तार 7°9′ )

देशान्तरीय स्थिति

69°30 ‘ पूर्वी देशान्तर से 78°17 ‘ पूर्वी देशान्तर

( देशान्तरीय विस्तार 8°47 )

कर्क रेखा (23°30′ उत्तरी अक्षांश रेखा) राज्य में डूंगरपुर जिले की दक्षिणी सीमा से होती हुई बाँसवाड़ा जिले के लगभग मुध्य में से गुजरती है ।

● बाँसवाड़ा शहर कर्क रेखा से राज्य का सर्वाधिक नजदीक स्थित शहर है ।

● कर्क रेखा के उत्तर में होने के कारण जलवायु की दृष्टि से राज्य का अधिकांश भाग उपोष्ण या शीतोष्ण कटिबन्ध में स्थित हैं । बाँसवाड़ा जिले का अधिकांश भाग उष्ण कटिबंध में है ।

★ उत्तर से दक्षिण तक राज्य की लम्बाई 826 किमी व विस्तार उत्तर में कोणा गाँव ( गंगानगर ) से दक्षिण में बोरकुंड गाँव ( कुशलगढ़ , बाँसवाड़ा ) तक है ।

★ पूर्व से पश्चिम तक राज्य की चौड़ाई 869 किमी तथा विस्तार पश्चिम में कटरा गाँव ( सम , जैसलमेर ) से पूर्व में सिलान गाँव ( राजाखेड़ा , धौलपुर ) तक है ।

आकृति :- विषमकोणीय चतुर्भुज या पतंग के समान ।

स्थलीय सीमा:- 5920 किमी. (1070 किमी. अन्तरराष्ट्रीय + 4850 किमी. अन्तरराज्यीय) (Rajasthan Vistar Bhotik Pardesh)

राजस्थान की अन्य राज्यों के साथ स्थिति

उत्तर :-

◆ पंजाब (फाजिल्का व मुक्तसर – 2 जिले) सीमा पर गंगानगर व हनुमानगढ़ – 2 जिले

उत्तर पूर्व :-

◆ हरियाणा (मेवात, रेवाड़ी, महेन्द्रगढ़, भिवानी, हिसार, सिरसा व फतेहाबाद – 7 जिले ) सीमा पर हनुमानगढ़, चुरू, झुंझुनूं , सीकर, जयपुर, अलवर व भरतपुर – 7 जिले

पूर्व :-

◆ उत्तर प्रदेश (आगरा व मथुरा – 2 जिले) सीमा पर भरतपुर व धौलपुर – 2 जिले

दक्षिण पूर्व :-

◆ मध्यप्रदेश (झाबुआ, रतलाम, मंदसौर, नीमच, अगर मालवा, राजगढ़, गुना, शिवपुरी, श्योपुर व मुरैना – 10 जिले ) सीमा पर धौलपुर, करौली, सवाई माधोपुर, कोटा, बाराँ, झालावाड़, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, प्रतापगढ़ व बाँसवाड़ा – 10 जिले

पश्चिम :-

◆ गुजरात (कच्छ, बनासकाँठा, साबरकाँठा, अरावली, महीसागर एवं दाहोद 6 जिले) सीमा पर बाँसवाड़ा,उदयपुर, डूंगरपुर, सिरोही, जालौर व बाड़मेर – 6 जिले

अंतर्राष्ट्रीय सीमा :-

◆ पाकिस्तान (पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का बहावलनगर, बहावलपुर व रहीमयार खान तथा सिंध प्रांत के घोटकी, सुकुर, खैरपुर, संघर, उमरकोट व थारपारकर जिले – 9 जिले) सीमा पर बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर व गंगानगर – 4 जिले

● इस अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखा का नाम रेडक्लिफ रेखा है । यह राज्य में उत्तर में गंगानगर के हिंदुमल कोट से लेकर दक्षिण में बाड़मेर के भागल गाँव ( बाखासर ) तक विस्तृत है ।

सर्वाधिक लम्बी सीमा :- अंतरराष्ट्रीय (पाकिस्तान से लगती हुई रेडक्लिफ रेखा) जैसलमेर जिले की ।

सर्वाधिक लम्बी अंतरराज्यीय सीमा :- झालावाड़ जिले की सबसे लम्बी सीमा है जो मध्यप्रदेश से लगती है ।

सबसे कम लम्बी सीमा :- अंतरराष्ट्रीय (पाकिस्तान से लगती हुई रेडक्लिफ रेखा) – बीकानेर जिले की ।

सबसे कम लम्बी अंतरराज्यीय सीमा :- बाड़मेर जिले की , जो गुजरात से मिलती है । गुजरात की सर्वाधिक लम्बी अन्तर्राज्यीय सीमा उदयपुर जिले से लगती है ।

◆ राज्य की सबसे कम लम्बी अन्तर्राज्यीय सीमा पंजाब राज्य से लगती है एवं सर्वाधिक लम्बी अन्तरराज्यीय सीमा मध्यप्रदेश से मिलती है ।

राज्य की स्थलीय सीमा पर स्थित जिलों की संख्या 25 है।

राजस्थान के 23 जिले अंतरराज्यीय सीमा पर स्थित है तथा 4 जिले अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर स्थित है।

राजस्थान के भौतिक प्रदेश (Rajasthan ke Bhotik Pardesh)

राजस्थान को चार भौतिक प्रदेशों (Rajasthan ke Bhotik Pardesh) में बांटा गया है।

1.उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश :-

जिले :- जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर, बीकानेर, पाली, हनुमानगढ़, गंगानगर, नागौर, जालौर, चुरू, सीकर, झुंंझुनूं

विशेषताएँ :-

क्षेत्रफल :- राज्य के कुल क्षेत्रफल का लगभग 61 % भाग (लगभग 20,9000 वर्ग किमी क्षेत्र) । यह प्रदेश उत्तर पश्चिम से दक्षिण – पूर्व में 640 किमी . लम्बा एवं पूर्व से पश्चिम में 300 किमी . चौड़ा है ।

जनसंख्या :- राज्य की कुल जनसंख्या का लगभग 40 %

वर्षा :- 20 सेमी से 50 सेमी ।

तापमान :- गर्मियों में उच्चतम 49° से.ग्रे. तक तथा सर्दियों में -3° से.ग्रे. तक ।

जलवायु :- शुष्क व अत्यधिक विषम ।

मिट्टी :- रेतीली बलुई

● यह भू भाग अरावली पर्वतमाला के उत्तर – पश्चिम एवं पश्चिम में विस्तृत है । अरावली का वृष्टि छाया प्रदेश होने के कारण दक्षिणी – पश्चिमी मानसून (अरब सागर व बंगाल की खाड़ी का मानसून) सामान्यत : यहाँ वर्षा बहुत कम करता है। अत : वर्षा का वार्षिक औसत 20 – 50 सेमी . रहता है ।

● इस प्रदेश का सामान्य ढाल पूर्व से पश्चिम तथा उत्तर से दक्षिण की ओर है ( या उत्तर – पूर्व से दक्षिण पश्चिम की ओर )

● इसकी समुद्र तल से सामान्य ऊँचाई 200 से 300 मीटर है

● यह भू – भाग टेथीस सागर (इयोसीन व प्लीस्टोसीन काल में विद्यमान था) का अवशेष है ।

● 25 सेमी सम वर्षा रेखा मरुस्थलीय भाग को दो भागों में बांटती है। –

( अ ) पश्चिमी विशाल मरुस्थल या रेतीला शुष्क मैदान या महान् मरुभूमि (Great Indian Desert):-

• इसमें वर्षा का वार्षिक औसत 20 सेमी तक रहता है । (बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर, गंगानगर आदि क्षेत्र)

• वर्षा अत्यधिक कम होने के कारण इस प्रदेश को शुष्क बालका मैदान भी कहते हैं ।

पश्चिमी रेतीले शुष्क मैदान के दो उपविभाग हैं

(1) बालुकास्तूप युक्त मरुस्थलीय प्रदेश

(2) बालकास्तुप मुक्त ( रहित ) क्षेत्र

( ब ) राजस्थान बांगर ( बांगड़ ) या अर्द्धशुष्क मैदान :-

• अर्द्धशुष्क मैदान महान् शुष्क रेतीले प्रदेश के पूर्व में व अरावली पहाड़ियों के पश्चिम में लूनी नदी के जल प्रवाह क्षेत्र में अवस्थित है ।

• यह आन्तरिक प्रवाह क्षेत्र है । इसका उत्तरी भाग घग्घर का मैदान , उत्तरपूर्वी भाग शेखावाटी का आन्तरिक जल प्रवाह क्षेत्र , व दक्षिण – पश्चिमी भाग लूनी नदी बेसिन तथा मध्यवर्ती भाग नागौरी उच्च भूमि है ।

• इस सम्पूर्ण प्रदेश को निम्न चार भागों में विभाजित करते हैं

( 1 ) घग्घर का मैदान :- यह मुख्यत: हनुमानगढ़ एंव गंगानगर जिलों में विस्तृत है । इस क्षेत्र में वर्तमान में घग्घर नदी प्रवाहित होती है, जो मृत नदी के नाम से भी जानी जाती है ।

( 2 ) लूनी बेसिन या गौड़वाड़ क्षेत्र :- लूनी एवं उसकी सहायक नदियों के इस अपवाह क्षेत्र को गौड़वाड़ प्रदेश कहते हैं । इस क्षेत्र में जालौर – सिवाना की ग्रेनाइट पहाड़ियाँ स्थित हैं ।

( 3 ) नागौरी उच्च भूमि प्रदेशः- राजस्थान बांगड़ प्रदेश के मध्यवर्ती भाग को नागौर उच्च भूमि कहते हैं । इस क्षेत्र में डीडवाना , कुचामन , सांभर , नावां आदि खारे पानी की झीलें हैं जहाँ नमक उत्पादित होता है ।

( 4 ) शेखावाटी आंतरिक प्रवाह क्षेत्र :- बांगड़ प्रदेश के इस भू – भाग में चुरू , सीकर , झुंझुनूं व नागौर का कुछ भाग आता है । इसके उत्तर में घग्घर का मैदान तथा पूर्व में अरावली पर्वत श्रृंखला है । इस प्रदेश में बरखान प्रकार के बालुकास्तूपों का बाहुल्य है ।

मुख्य फसलें :- बाजरा, मोठ व ग्वार

वनस्पति :- बबूल , फोग , खेजड़ा , कैर , बेर व सेवण घास आदि ।

इंदिरा गाँधी नहर :- इस क्षेत्र की मुख्य नहर व जीवन रेखा नहर आने के बाद इस क्षेत्र में अन्य फसलें भी होने लगी हैं ।

◆ इस सम्पुर्ण मरुस्थल में बालुका – स्तूपों के बीच में कहीं – कहीं निम्न भूमि मिलती है जिसमें वर्षा का जल भर जाने से अस्थायी झीलों व दलदली भूमि का निर्माण होता है जिसे ‘ रन ‘ ( Rann ) कहते हैं । कनोड़ , बरमसर , भाकरी , पोकरण (जैसलमेर ) , बाप ( जोधपुर ) तथा थोब ( बाड़मेर ) प्रमुख रन हैं ।

◆ इस प्रदेश की प्रमुख नदी लूनी है , जो नागपहाड़ (अजमेर) से निकलकर नागौर , पाली , जोधपर, बाड़मेर व जालौर में बहकर कच्छ के रन ( गुजरात ) में विलुप्त हो जाती है

2. अरावली पर्वतीय प्रदेश :-

जिले :- उदयपुर, चितौड़गढ़, राजसमंद, डूँगरपुर, प्रतापगढ़, भीलवाड़ा, सीकर, झुंझुनूं, अजमेर, सिरोही, अलवर, पाली, जयपुर।

◆ विश्व की प्राचीनतम पर्वत श्रेणियों में से एक अरावली पर्वतमाला राजस्थान के भू – भाग को दो असमान भागों में विभक्त करती है । इन पर्वतों में ग्रेनाइट चट्टानें भी मिलती है जो सेंदड़ा ( ब्यावर ) के पास अधिक फैली हुई है ।

क्षेत्रफल :- राज्य के सम्पूर्ण भू – भाग का 9%

जनसंख्या :- राज्य की कुल जनसंख्या का लगभग 10%

वर्षा :- 50 सेमी से 90 सेमी । अरावली पर्वत राज्य में एक वर्षा ( जल ) विभाजक रेखा का कार्य करते हैं

◆ राज्य का सर्वाधिक वर्षा वाला स्थान माउन्ट आबू ( लगभग 150 सेमी ) इसी में स्थित है ।

जलवायु :- उपआर्द्र जलवायु

मिट्टी :- काली , भूरी लाल व कंकरीली मिट्टी

● अरावली पर्वतमाला का विस्तार कर्णवत रूप में दक्षिण – पश्चिम में गुजरात में खेड़ ब्रह्म , पालनपुर लेकर उत्तर – पूर्व में खेतडी सिंघाना (झंझुनूं ) तक शृंखलाबद्ध रूप में है , उसके बाद छोटे-छोटे हिस्सों में दिल्ली तक ( रायसीना पहाड़ी तक ) फैली हुई हैं । इन शृंखलाओं की चौड़ाई व ऊँचाई दक्षिण पश्चिम में अधिक है जो धीरे धीरे उत्तर – पूर्व में कम होती चली जाती है ।

● अरावली पर्वत श्रृंखला गोंडवाना लैंड का अवशेष है। इनकी उत्पत्ति भूगर्भिक इतिहास के प्री , केम्ब्रियन कल्प ( प्राचीन काल ) में हुई थी ।

● अरावली के दक्षिणी भाग में पठार , उत्तरों एवं पूर्वी भाग में मैदान एवं पश्चिमी भाग में मरुस्थल है । अरावली पर्वत प्रारंभ में बहुत ऊँचे थे परंतु अनाच्छादन के कारण ये आज अवशिष्ट पर्वतों के रूप हैं ।

● इस क्षेत्र में कई महत्त्वपूर्ण खनिज बहुतायत से मिलते हैं , जैसे , ताँबा , सोसा , जस्ता , अभ्रक , चाँदी , लोहा मैंगनीज , फेल्सपार , ग्रेनाइट , मार्बल , चूना पत्थर , पन्ना आदि ।

मुख्य दर्रे :- देसूरी नाल व हाथी दर्रा, केवड़ा की नाल (उदयपुर) , जीलवाड़ा नाल , सोमेश्वर नाल आदि ।

● अरावली श्रृंखला की कुल लम्बाई 692 किमी में से 550 किमी ( 80% ) राजस्थान में हैं ।

● अरावली पर्वत विश्व के प्राचीनतम वलित पर्वत हैं ।

● अरावली पर्वतीय प्रदेश की समुद्र तल से औसत ऊँचाई 930 मीटर है ।

अरावली पर्वतीय प्रदेश को निम्न चार भागों में विभाजित किया जाता है ।

1.उत्तर पूर्वी पहाड़ी प्रदेश :- अरावली पर्वतीय क्षेत्र का यह भाग जयपुर की सांभर झील के उत्तर – पूर्व में राजस्थान – हरियाणा सीमा तक फैला हुआ है । इसमें जयपुर जिले के उत्तर – पूर्व में स्थित शेखावाटी एवं तोरावाटी क्षेत्र की पहाड़ियाँ , जयपुर एवं अलवर की पहाड़ियाँ शामिल की जाती हैं । रघुनाथगढ़,सीकर (1055 मी.) , खो,जयपुर (920मी.) एवं बाबाई, झुंझुनूं (780मी.) , भैराच (अलवर ,792मी.) एवं बैराठ, जयपुर (704 मी.) इस भाग की प्रमुख पर्वत चोटियाँ हैं

2. मध्यवर्ती अरावली श्रेणी : अरावली पर्वतीय प्रदेश के इस भाग में अजमेर , जयपुर एवं पश्चिमी टोंक जिले की पहाड़ियाँ तथा शेखावाटी क्षेत्र ( सीकर – झुंझुनूं ) की निम्न पहाड़ियाँ आती हैं । इस क्षेत्र में मेरवाड़ा की पहाड़ियों में अजमेर स्थित तारागढ़ (872 मी.) एवं नाग पहाड़ (795 मी.) आदि प्रमुख चोटियाँ है ।

3. भोरठ का पठारी क्षेत्र :- अरावली श्रेणी के इस भू – भाग में उदयपुर डूंगरपुर , राजसमंद , चित्तौड़गढ़ एवं प्रतापगढ़ तथा सिरोही के पूर्वी भाग की पहाड़ियाँ सम्मिलित की जाती हैं । आबू पर्वत खण्ड के अलावा अरावली पर्वत श्रेणी का उच्चतम भाग कुम्भलगढ़ व गौगन्दा के बीच (उदयपुर के उत्तर पश्चिम में) स्थित भोरठ का पठार है जिसकी औसत ऊँचाई 1225 मीटर है ।

● राज्य की चौथी सर्वोच्च चोटी जरगा (1431 मी.) भी इसी क्षेत्र में स्थित है । इस क्षेत्र की अन्य चोटियाँ गोगुन्दा (840 मी.) , सायरा (900 मी) , कोटड़ा (450 मी.) आदि हैं

4. आबू पर्वत खण्ड़ :- अरावली पर्वतीय क्षेत्र का उच्चतम भाग आबू पर्वत है जो सिरोही जिले में अवस्थित है । इसकी समुद्रतल से औसत ऊँचाई 1200 मी. से भी अधिक हैं । इसमें ग्रेनाइट चट्टानों की बहुलता हैं ।

● आबू पर्वत से सटा हुआ उड़िया पठार ( ऊँचाई 1360 मीटर ) राज्य का सर्वोच्च पठार हैं । जो सबसे ऊँची चोटी गरुशिखर के नीचे है । इसी क्षेत्र में राज्य की दूसरी सर्वोच्च चोटी सेर (1597मी.) दिलवाड़ा (1442 मी ) एवं अचलगढ़ (1380 मी) स्थित है । (Rajasthan Vistar Bhotik Pardesh)

3. पूर्वी मैदानी भाग :-

जिले :- जयपुर, भरतपुर, दौसा, सवाईमाधोपुर, करौली, टोंक, अलवर, धौलपुर, अजमेर, प्रतापगढ़, ढूंगरपुर

● यह मैदानी भाग अरावली पर्वतमाला के पूर्व में स्थित है । इस मैदान का उत्तरी पूर्वी भाग गंगा – यमुना के मैदानी भाग से मिला हुआ है । इसका ढाल पूर्व की ओर है ।

● इसका क्षेत्रफल राज्य के कुल क्षेत्रफल का लगभग 23% है

● यह मैदानी भाग 50 सेमी. सम वर्षा रेखा द्वारा पश्चिमी मरुस्थलीय भाग से विभाजित है ।

जनसंख्या :- राज्य की लगभग 39 % जनसंख्या यहाँ निवास करती है । इस क्षेत्र का जनसंख्या घनत्व सर्वाधिक है।

वर्षा :- 50 सेमी से 80 सेमी वार्षिक के मध्य

जलवायु :- आर्द्र जलवायु

मिट्टी :- जलोढ व दोमट मिट्टी

छप्पन का मैदान :- बाँसवाड़ा – प्रतापगढ – ढूंगरपुर के मध्यवर्ती मैदानी भाग को में विस्तत है ।

● कृषि मुख्य व्यवसाय है गेहूँ , जौ , चना , ज्वार , मक्का , बाजरा , तिलहन , सरसों , दालें ( मूंग , उड़द , अरहर ) , गन्ना आदि का बहुत उत्पादन होता है । इस क्षेत्र में कुओं द्वारा सिंचाई अधिक होती है ।

● नहरें :- भरतपुर नहर व गुड़गाँव नहर ।

● इस प्रदेश का ढाल पूर्व दिशा में है , अत: सभी नदियाँ पश्चिम से पूर्व की ओर बहकर बंगाल की खाड़ी में अपना जल ले जाती हैं । दक्षिणी मैदानी क्षेत्र का ढाल पश्चिम में होने के कारण माही नदी खम्भात की खाड़ी में गिरती है ।

● चंबल बेसिन का ढाल दक्षिण से उत्तर की ओर एवं बनास बेसिन का ढाल उत्तर पूर्व व पूर्व की ओर तथा माहीं बेसिन का ढाल पश्चिम में गुजरात राज्य की तरफ है।

● इस मैदानी भाग की दक्षिणी – पूर्वी सीमा पर विन्ध्यन पठार व हाड़ौती का पठार स्थित है ।

● इस बेसिन के पश्चिमी भाग देवगढ़ के आसपास को पीडमांट का मैदान कहते हैं ।

पूर्वी मैदानी भाग के उपभाग –

● पूर्वी मैदानी भाग को निम्न तीन उप – विभागों में विभाजित किया गया है –

1.बनास बेसिन : बनास व उसकी सहायक नदियों खारी, मोरेल, बेडच, मेनाल, कोठारी, कालीसिल, माशी आदि द्वारा सिंचित मैदानी भाग।

2 . चम्बल बेसिन : इस बेसिन में विशाल बीहड़ हैं जिनमें चोर – डाकुओं का आतंक रहता है । इस मैदानी क्षेत्र में कोटा, बूंदी, टोंक, सवाई माधोपुर एवं धौलपुर के क्षेत्र शामिल हैं ।

3 . छप्पन बेसिन : माही एवं उसकी सहायक नदियों द्वारा सिंचित राजस्थान का यह दक्षिणी भाग ‘वागड’ नाम से प्रसिद्ध है । बाँसवाड़ा व प्रतापगढ़ के बीच का क्षेत्र ‘छप्पन का मैदान’ है ।(Rajasthan Vistar Bhotik Pardesh)

4. दक्षिण-पूर्वी पठारी भाग :-

जिले:- कोटा, बूँदी, झालावाड़, बांरा, बाँसवाड़ा, चितौरगढ़, भीलवाड़ा।

● यह मालवा के पठार का ही एक भाग है तथा चम्बल नदी के सहारे पूर्वी भाग में विस्तृत है । इस क्षेत्र में राज्य का लगभग 7 % भाग आता है तथा 11 % जनसंख्या निवास करती है । इसे हाड़ौती का पठार/ लावा का पठार भी कहते हैं । यह आगे जाकर मालवा के पठार में मिल जाता है ।

वर्षा : 80 सेमी से 120 सेमी । राज्य का सर्वाधिक वार्षिक वर्षा वाला क्षेत्र

मिट्टी : काली उपजाऊ मिट्टी , जिसका निर्माण प्रारम्भिक ज्वालामुखी चट्टानों से हुआ है । इसके अलावा लाल और कछारी मिट्टी भी पाई जाती है। धरातल पथरीला व चट्टानी है।

जलवायु : अति आर्द्र जलवायु प्रदेश

फसलें : कपास , गन्ना , अफीम , तम्बाकू , चावल धनिया , मेथी , संतरा

वनस्पति : लम्बी घास , झाड़ियाँ , बाँस , खेर , गूलर , सालर , धोंक , ढाक , सागवान आदि । यह संपूर्ण प्रदेश चम्बल और उसकी सहायक काली सिंध , परवन और पार्वती नदियों द्वारा प्रवाहित है ।

● इस प्रदेश का ढाल दक्षिण से उत्तर की ओर है । इसी कारण चम्बल व इसकी कई सहायक नदियाँ दक्षिण से उत्तर की ओर बहती हैं । यह पठारी भाग अरावली और विंध्याचल पर्वत के बीच संक्रान्ति प्रदेश है । इस भू – भाग के दो भाग हैं –

( i ) विन्ध्यन कागार भूमि – यह क्षेत्र विशाल बलुआ पत्थरों से निर्मित्त है ।

( ii ) दक्कन का लावा पठार – इस क्षेत्र में बलुआ पत्थरों के साथ – साथ बीच – बीच में स्लेटी पत्थर भी मिलता है । बूंदी व मुकुन्दवाड़ा की पहाड़ियाँ इसी पठारी भाग में हैं ।

● ऊपरमाल का पठार एवं मेवाड़ का पठार इसी के भाग हैं । (Rajasthan Vistar Bhotik Pardesh)

◆ महत्वपूर्ण प्रश्न –

भौतिक प्रदेश किसे कहते है ?

उतर – किसी एक समान सरंचना एवं निर्माण क्रम वाले वृहत् क्षेत्र को भौतिक प्रदेश (Rajasthan Bhotik Pardesh) कहते है।

राजस्थान के भौतिक प्रदेशों (Rajasthan Bhotik Pardesh) की उत्पति काल :-

उत्तर – राजस्थान के भौतिक प्रदेेशों (Rajasthan Bhotik Pardesh) की उत्पति निम्न प्रकार हुुुई है –
1. दक्षिण पूर्वी पठारी प्रदेश – मध्य जीवी महाकल्प (मिसोजोइक एरा) के क्रिटेशियस काल मे ज्वालामुखी उद्द्गार से।
2. पूर्वी मैदानी प्रदेश – चतुर्थक महाकल्प (नियोजोइक एरा) के प्लीस्टोसीन काल मे गंगा, यमुना द्वारा लाई गई मिट्टी से
3. अरावली पर्वतीय प्रदेश – आद्य महाकल्प के प्रि-केम्ब्रियन काल मे वलन की क्रिया से।
4. पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश – चतुर्थक महाकल्प के प्लीस्टोसीन काल मे टेथिस सागर के अवशेष के रूप में

राजस्थान के भौतिक प्रदेशों (Rajasthan Bhotik Pardesh) का निर्माण :-

राजस्थान भौतिक दृष्टि से पृथ्वी के प्राचीन अंगारालेण्ड, गोंडवाना लेण्ड, एवं टेथिस सागर के जमाव या अवशेष से निर्मित है।

राजस्थान के प्रमुख पर्वत, पहाड़ियाँ व पठार

गुरु शिखर :-

● अरावली की पहाड़ियों में माउण्ट आबू (सिरोही) में स्थित राजस्थान की सबसे ऊँची पर्वत चोटी।

● इसकी ऊँचाई 1722 मीटर है । यह हिमालय व पश्चिमी घाट की नीलगिरी के मध्य स्थित सर्वाधिक ऊँची चोटी है ।

● कर्नल टॉड ने इसे संतों का शिखर कहा है ।

सेर ( सिरोही ) :- 1597 मीटर ऊँची राज्य की दूसरी सबसे ऊँची चोटी एवं दिलवाड़ा (1442 मी) : राज्य की तीसरी सबसे ऊँची पर्वत चोटी

जरगा ( उदयपुर ) :– 1431 मीटर ऊँची राज्य की चौथी सबसे ऊँची चोटी , जो भोरट के पठार में स्थित है । मेसा पठार ( 620 मीटर ऊँचा ) पर चित्तौड़गढ़ का किला स्थित है

अचलगढ़ ( सिरोही ) :- 1380 मीटर ऊँची पर्वत श्रेणी ।

रघुनाथगढ़ ( सीकर ) :- 1055 मी .

खौ – 920 मी. , तारागढ़ 873 मी .

मुकुन्दवाड़ा की पहाड़ियाँ : कोटा व झालरापाटन (झालावाड़) के बीच स्थित इस भू – भाग का ढाल दक्षिण से उत्तर की ओर है , अत: चम्बल नदी दक्षिण से उत्तर की ओर बहती है । (Rajasthan Vistar Bhotik Pardesh)

मालखेत की पहाड़ियाँ : सीकर जिले की पहाड़ियों का स्थानीय नाम । हर्ष की पहाड़ियाँ सीकर जिले में स्थित हैं जिस पर जीणमाता का प्रसिद्ध मंदिर स्थित है ।

सुण्डा पर्वत : भीनमाल ( जालौर ) के निकट स्थित पहाड़ियाँ , जिनमें सुण्डा माता का मंदिर स्थित है । इस पर्वत पर 2008 में राज्य का पहला रोप वे प्रारंभ किया गया है ।

मालाणी पर्वत श्रृंखला : लूनी बेसिन का मध्यवर्ती घाटी के भाग जो मुख्यत : जालौर एवं बालोतरा के मध्य स्थित है ।

उड़िया पठार : राज्य का सबसे ऊँचा पठार , जो गुरू शिखर से नीचे स्थित है । यह आबू पर्वत से 160 मीटर ऊँचा है ।

आबू पर्वत : आबू पर्वत खंड का दूसरा सबसे ऊँचा पठार (उड़िया पठार के बाद) , जिसकी औसत ऊँचाई 1200 मी. से अधिक है । यहीं पर टॉड रॉक एवं हार्न रॉक स्थित है ।

भोरठ का पठार : आबू पर्वत खंड के बाद राज्य का उच्चतम पठार , जो उदयपुर के उत्तर पश्चिम में गोगुन्दा व कुम्भलगढ़ के बीच स्थित है । इसकी औसत ऊँचाई 1225 मी. है ।

भाकर : पूर्वी सिरोही क्षेत्र में अरावली की तीव्र ढाल वाली व ऊबड़ – खाबड़ कटक ( पहाड़ियां ) स्थानीय भाषा में ‘भाकर’ नाम से जानी जाती है ।

अन्य चोटियाँ :- कुम्भलगढ़ (1224 मीटर), कमलनाथ की पहाड़ी (1001 मीटर), ऋषीकेश (1017 मीटर), सज्जनगढ़ (938 मीटर) एवं लालगढ़ (874 मीटर)

गिरवा :- उदयपुर क्षेत्र में तस्तरीनुमा आकृति वाले पहाडों की मेखला ( श्रखला ) को स्थानीय भाषा में गिरवा कहते है ।

मेरवाड़ा की पहाड़ियाँ :- अरावली पर्वत श्रेणियों का टाडगढ़ के समीप का भाग जो मारवाड़ के मैदान को मेवाड़ के उच्च पठार से अलग करता है ।

छप्पन की पहाड़ियाँ व नाकोड़ा पर्वत :- बाड़मेर में सिवाणा पर्वत क्षेत्र में स्थित मुख्यतः गोलाकार पहाडियाँ इन्हें ‘नाकोड़ा पर्वत’ के नाम से भी जाना जाता है ।

लासड़िया का पठार :- उदयपुर में जयसमंद से आगे पूर्व की और विच्छेदित व कटाफटा पठार ।

त्रिकूट पहाड़ी :- जैसलमेर किला इसी पर स्थित है ।

उपरमाल : चित्तौड़गढ़ के भैंसरोडगढ़ से भीलवाड़ा के बिजोलिया तक का पठारी भाग रियासत काल में ‘ उपरमाल ‘ के नाम से जाना जाता था ।

भैराच एवं उदयनाथ : अलवर में स्थित पहाड़ियाँ ।

मगरा : उदयपुर का उत्तर पश्चिमी पर्वतीय भाग, यहीं जरगा पर्वत चोटी स्थित है ।

◆ खो जयपुर जिले में व बाबाई ( झुंझुनू ) में स्थित पहाड़ियाँ

डोरा पर्वत ( 869 मी . ) : जसवंतपुरा पर्वतीय क्षेत्र जालौर में स्थित ।

रोजाभाखर ( 730 मी . ) , इसराना भाखर ( 839 मी . ) एवं झारोला पहाड़ :- ये सभी जालौर पर्वतीय क्षेत्र (जसवंतपुरा को पहाडियाँ) में स्थित हैं ।

नालः- अरावली श्रेणियों के मध्य मेवाड़ क्षेत्र में स्थित तंगरास्तों ( दर्रों ) को स्थानीय भाषा में नाल कहते हैं ।

मेवाड़ में प्रमुख नालें –

( 1 ) जीलवा की नाल ( पगल्या नाल ) :- यह मारवाड़ से मेवाड़ में आने का रास्ता प्रदान करती है ।

( 2 ) सोमेश्वर की नाल :- देसूरी से कुछ मील उत्तर में स्थित विकट तंग दर्रा ।

( 3 ) हाथी गुड़ा की नाल :- देसूरी से दक्षिण में 5 मील दूरी पर स्थित नाल । कुंभलगढ़ का किला इसी नाल के नजदीक है।

महत्वपूर्ण तथ्य

राजस्थान के भौतिक प्रदेश (Rajasthan Bhotik Pardesh) से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य :-

खादर : चंबल बेसिन में 5 से 30 मीटर गहरी खड्डू युक्त बीहड़ भूमि को स्थानीय भाषा में खादर कहते हैं ।

धोरे : रेगिस्तान में रेत के बड़े – बड़े टीले , जिनकी आकृति लहरदार होती हैं ।

बरखान : रेगिस्तान में रेत के अर्द्धचन्द्राकार बड़े – बड़े टीले ये एक स्थान से दूसरे स्थान पर गतिशील रहते हैं ।

लघु मरुस्थल : महान थार मरुस्थल का पूर्वी भाग जो कच्छ से बीकानेर तक फैला हैं ।

बीहड़ भूमि या कंदराएँ : चम्बल नदी के द्वारा मिट्टी के भारी कटाव के कारण प्रवाह क्षेत्र में बन गई गहरी घाटियाँ व टीले । राजस्थान में सर्वाधिक बीहड़ भूमि धौलपुर जिले में हैं । राजस्थान व मध्यप्रदेश के सीमावर्ती जिले भिण्ड , मुरैना , धौलपुर आदि में ये कंदराएँ बहुत हैं ।

खड़ीन : जैसलमेर के उत्तर दिशा में बड़ी संख्या में स्थित प्लाया झीलें जो प्राय : निम्न कागारों से घिरी रहती हैं ।

धरियन : जैसलमेर जिले के ऐसे भू – भाग में , जहाँ आबादी लगभग नगण्य है , स्थानान्तरित बालुका स्तुपों को स्थानीय भाषा में धरियन नाम से पुकारते हैं ।

बांगड़ ( बांगर ) : यह अरावली पर्वत एवं पश्चिम मरुस्थल के मध्य का भाग है जो मुख्यत : झुंझुनूं , सीकर व नागौर जिले में विस्तृत है । (Rajasthan Vistar Bhotik Pardesh)

महत्वपूर्ण तथ्य :-

छप्पन के मैदान : बाँसवाड़ , डूंगरपुर व प्रतापगढ़ के बीच माही बेसिन में 56 ग्राम समूहों (56 नदी नालों का प्रवाह क्षेत्र) का क्षेत्र

पीडमान्ट मैदान : अरावली श्रेणी में देवगढ़ के समीप स्थित पृथक निर्जन पहाड़ियाँ जिनके उच्च भू – भाग टीलेनुमा है

बीजासण का पहाड़ : मांडलगढ़ कस्बे के पास स्थित है ।

विन्ध्याचल पर्वत : राजस्थान के दक्षिण – पूर्व में मध्यप्रदेश में स्थित है ।

लाठी सीरीज क्षेत्र : जैसलमेर में पोकरण से मोहनगढ़ तक पाकिस्तानी सीमा के सहारे विस्तृत एक भूगर्भीय जल की चौड़ी पट्टी जहाँ उपयोगी सेवण घास अत्यधिक मात्रा में पाई जाती है ।

कूबड़ पट्टी : राजस्थान के नागौर एवं अजमेर जिले के कुछ क्षेत्रों में भूगर्भीय पानी में फ्लोराइड की मात्रा अत्यधिक होने के कारण; वहाँ के निवासियों की हड्डियों में टेड़ापन आ जाता है। एवं पीठ झुक जाती है इसलिए इसे कूबड़ पट्टी कहते है। (Rajasthan Vistar Bhotik Pardesh)

प्रश्न :- राजस्थान भौतिक प्रदेश (Rajasthan Bhotik Pardesh) जिसमें सर्वाधिक जलीय जैव विविधता पाई जाती है ?

उत्तर – राजस्थान के दक्षिण पूर्वी पठार (हाड़ोती का पठार) में सर्वाधिक जलीय जैव विविधता पाई जाती है। यह सर्वाधिक आर्द्रता वाला भौतिक प्रदेश है।

डाउनलोड राजस्थान की स्थिति, विस्तार एवं भौतिक प्रदेश वस्तुनिष्ठ प्रश्नोतर

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top