राजस्थान की लोक देवियां | Rajasthan Lok Deviyan

Rajasthan Lok Deviyan, Rajasthan ki Lok Deviyan Notes In Hindi PDF, Rajasthan Culture Notes In Hindi PDF, Rajasthan Culture Notes PDF, राजस्थान की लोक देवियां

राजस्थान की लोक देवियां | Rajasthan Lok Deviyan

★ करणीमाता :-

● मंदिर – देशनोक (बीकानेर)

● बीकानेर के राठौड़ शासकों की कुलदेवी

● चूहों वाली देवी के नाम से विख्यात

● करणी माता के मंदिर में सफेद चूहों को काबा कहते हैं।

● राव बीका ने बीकानेर राज्य की स्थापना करणी माता के आशीर्वाद से की थी।

★ जीण माता :-

● मंदिर – रेवासा (सीकर)

● इनके मंदिर का निर्माण पृथ्वीराज चौहान प्रथम के समय राजा हट्टड़ द्वारा करवाया गया

● चौहान वंश की आराध्य देवी

● इन के मंदिर में अष्टभुजी प्रतिमा है जो एक अवसर पर अढ़ाई प्याले मदिरापान करती है।

● मेला – चैत्र तथा आश्विन माह के नवरात्रों में

★ कैला देवी :-

● मंदिर – त्रिकूट पर्वत (करौली)

● करौली के यदुवंश (यादव वंश) की कुलदेवी

● मेला – नवरात्रों में

● इनकी आराधना में लांगुरिया गीत गाए जाते हैं।

● कैला देवी के सामने ही बोहरा की छतरी है।

★ शीला देवी :-

● मंदिर – आमेर दुर्ग

● 16वीं सदी में मानसिंह प्रथम ने पूर्वी बंगाल की विजय के पश्चात इस देवी को आमेर के महलों में स्थापित किया।

● जयपुर के कछवाहा वंश की आराध्य / कुलदेवी

● इनकी प्रतिमा अष्टभुजी है

★ शीतला माता :-

● मंदिर – चाकसू (जयपुर)

● मंदिर का निर्माण माधोसिंह ने करवाया था।

● मेला-  चैत्र कृष्णा अष्टमी को इस दिन बाद छोड़ा मनाते हैं

● जांटी (खेजड़ी) को शीतला माता मानकर पूजा जाता है।

● इनकी पूजा खंडित प्रतिमा के रूप में की जाती है।

● पुजारी – कुम्हार

● सवारी – गधा

● इसे चेचक की देवी व बच्चों की संरक्षिका देवी कहा जाता है।

★ ब्राह्मणी माता :-

● मंदिर – सोरसन (बांरा)

● विश्व का यह एकमात्र मंदिर है जहां देवी की पीठ का श्रंगार किया जाता है एवं देवी की पीठ की पूजा और दर्शन किए जाते हैं।

● मेला-  माघ शुक्ल सप्तमी को

★ अंबिका माता :-

● मंदिर – जगत (उदयपुर)

● इसका निर्माण राजा अल्लट के काल में 18वीं शताब्दी में महामारु शैली में किया गया।

● जगत का मंदिर मेवाड़ का खजुराहो कहलाता है।

★ सुगाली माता :-

● स्थान – आऊवा (पाली)

● आऊवा के ठाकुर परिवार की कुलदेवी

● इस देवी की प्रतिमा के 54 हाथ तथा 10 सिर है।

● इस मूर्ति को 1857 की क्रांति के समय अंग्रेजों द्वारा अजमेर लाकर रखा गया वर्तमान में पाली संग्रहालय में है।

★ अन्नपूर्णा माता :-

● मंदिर – आमेर (यह शीला देवी का दूध से धवल मंदिर है)

● मंदिर का निर्माण सवाई मानसिंह द्वितीय ने करवाया था।

● शिला माता की यह मूर्ति पाल शैली में काले संगमरमर से निर्मित है जिसे महाराजा मानसिंह ने 1604 में बंगाल के राजा केदार से लाए थे।

● इसमें राज परिवार की ओर से पूजा करने के बाद ही जन सामान्य के लिए मंदिर के द्वार खुलते हैं।

★ जमवाय माता :-

● मंदिर – जमवारामगढ़ (जयपुर)

● ढूंढाड़ के कछवाहा राजवंश की कुलदेवी

★ आई माता :-

● मंदिर – बिलाड़ा (जोधपुर)

● सीरवी जाति के क्षत्रियों की कुलदेवी

● ये रामदेव जी की शिष्या थी

● इन्हें मानी देवी (नवदुर्गा) का अवतार माना जाता है।

● इनका मंदिर दुरगाह व थान बडेर कहलाता है।

● बिलाड़ा के मंदिर के दीपक की ज्योति से केसर टपकती है।

★ रानी सती :-

● मंदिर – झुंझुनू

● मूलनाम – नारायणी

● ये दादीजी के नाम से लोकप्रिय है।

● मेला – प्रतिवर्ष भाद्रपद अमावस्या को

★ आवड़ माता / स्वांगियाजी :-

● मंदिर – तेमड़ी पर्वत (जैसलमेर)

● जैसलमेर के भाटी राजवंश की कुलदेवी

● सुगन चिड़ी को माता का स्वरूप माना जाता है।

● जैसलमेर के राज चिन्ह में सबसे ऊपर सुगन चिड़ी देवी का प्रतीक है।

★ नकटी माता :-

● मंदिर – भवानीपुरा (जयपुर) प्रतिहार कालीन

★ जिलाणी माता :-

● मंदिर – बहरोड़ (अलवर)

★ पथवारी माता :-

● तीर्थयात्रा की कामना हेतु राजस्थान में पथवारी देवी की पूजा की जाती है।

● पथवारी देवी की स्थापना गांव के बाहर की जाती है।

● इन के चित्रों में नीचे काला – गोरा भैरू तथा ऊपर कावड़िया वीर गंगोज का कलश बनाया जाता है।

★ बड़ली माता :-

● मंदिर – छिंपों के अकोला (चित्तौड़गढ़)

● माता की ताती बांधने से बीमार व्यक्ति ठीक हो जाता है।

★ सच्चियाय माता :-

● मंदिर – ओसियां (जोधपुर)

● ओसवालों की कुलदेवी

● सच्चियाय माता की प्रतिमा महिषासुरमर्दिनि देवी की है।

★ लटियाला / लुटियाल माता :-

● लुटियाल माता का मंदिर फलोदी जोधपुर में है जिसके आगे खेजड़ी (शमी) का वृक्ष स्थित है। इसलिए इन्हें खेजड़बेरी राय भवानी कहते हैं।

● इनका अन्य मंदिर बीकानेर के नया शहर में स्थित है।

★ सकराय माता :-

● मंदिर – उदयपुरवाटी (झुंझुनू) के समीप

● अकाल पीड़ितों को बचाने के लिए इन्होंने फल, सब्जियां, कंदमूल उत्पन्न किए जिसके कारण यह शाकंभरी कहलाई।

◆ खंडेलवालों की कुलदेवी।

● मेला – चैत्र और आश्विन माह के नवरात्रों में।

● इनका अन्य मंदिर सांभर में व दूसरा सहारनपुर उत्तर प्रदेश में है।

★ नारायणी माता :-

● मंदिर – बरवा की डूंगरी, राजगढ़ तहसील (अलवर)

● मंदिर का निर्माण 11वीं शताब्दी में प्रतिहार शैली में

● नाई जाति के लोग नारायणी माता को अपनी कुलदेवी मानते हैं

● मीणा जाति इन्हें अपनी आराध्य देवी मानती है।

★ भदाणा माता :-

● मंदिर – भदाणा (कोटा)

● कोटा के शासकों की कुलदेवी

● भदाणा माता के मंदिर में मुठ (तांत्रिक प्रयोग से मारना) की झपट में आए व्यक्ति को मौत के मुंह से बचाया जाता है।

★ छींक माता :-

● मंदिर – जयपुर

● माघ सुदी सप्तमी को छींक माता की पूजा होती है।

★ घेवर माता :-

● मंदिर – राजसमंद की पाल

● घेवर माता मालवा की रहने वाली थी।

★ तनोट माता :-

● मंदिर – तनोट (जैसलमेर)

● सैनिकों की माता, थार की वैष्णो देवी के रूप में विख्यात

● इस देवी की पूजा बीएसएफ के जवान करते हैं।

★ दधिमती माता :-

● मंदिर – गोठ मांगलोद (नागौर)

● पुराणों में इसे कुशाक्षेत्र कहा गया है।

● दाधीच ब्राह्मणों की कुलदेवी

★ बाण माता :-

● मंदिर – केलवाड़ा (उदयपुर)

● सिसोदिया राजवंश की कुलदेवी।

★ ज्वालामाता :-

● मंदिर – जोबनेर (जयपुर)

● खँगारोतो की कुलदेवी

★ त्रिपुरा सुंदरी / तुरताई माता

● मंदिर – तलवाड़ा (बाँसवाड़ा)

● काले पत्थर की अष्टादश भुजा की प्रतिमा

★ नागणेची माता :-

● मन्दिर – जोधपुर

● जोधपुर के राठौड़ो की कुल देवी

● थान – नीम के वृक्ष के नीचे

◆ अम्बा माता –  उदयपुर
◆ अर्बुदा देवी – माउण्टआबू
◆ हिचकी माता – सनवाड़ ( सवाईमाधोपुर )
◆ राढासैण माता – देलवाड़ा ( उदयपुर )
◆ मंशा माता – चुरू
◆ घोटिया अम्बा – डूँगरपुर
◆ छींछ माता – बांसवाड़ा
◆ खोखरी माता – जोधपुर
◆ विरात्रा माता – विरात्रा ( वाड़मेर )
◆ मोरखाना माता – बीकानेर
◆ हर्षद माता – आभानेरी ( दौसा )
◆ भ्रमर माता – सादड़ी
◆ ऊँटा माता -जोधपुर
◆ तरताई माता – तलवाड़ा ( बांसवाड़ा )
◆ जिलाणी माता – बहरोड़ ( अलवर )
◆ चौधरा माता – भाद्राजन
◆ इन्दरमाता – इन्दरगढ़ ( बूंदी )
◆ हिंगलाज माता – लौद्रवा ( जैसलमेर )
◆ भाँवल माता  – मेड़ता ( नागौर )
◆ जोगणिया माता – भीलवाड़ा
◆ घेवर माता – राजसमन्द
◆ महामाई माता – पाटन ( सीकर ) व रेनवाल ( जयपुर )
◆ आवरी माता – निकुंभ ( चित्तौड़गढ़ )
◆ चारभुजा माता – खमनौर ( हल्दीघाटी )
◆ बिरवड़ा – चित्तौड़गढ़ दुर्ग में
◆ भद्रकाली माता –  अमरपुरा थेहड़ी ( हनुमानगढ़ )
◆ राजेश्वरी माता – भरतपुर
◆ आमजा माता – केलवाड़ा ( उदयपुर )
◆ चारणी देवियाँ – जैसलमेर ( सात देवियाँ )
◆ सच्चिया माता – नागौर
◆ परमेश्वरी माता – कोलायत ( बीकानेर )
◆ सुंडा देवी – सुंदा पर्वत ( भीनमाल )
◆ ब्याई माता – डिगों ( दौसा )

Rajasthan Lok Deviyan, Rajasthan ki Lok Deviyan Notes In Hindi PDF, Rajasthan Culture Notes In Hindi PDF, Rajasthan Culture Notes PDF, राजस्थान की लोक देवियां

Download All Subject Notes PDF – Click Here

1 thought on “राजस्थान की लोक देवियां | Rajasthan Lok Deviyan”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top