राजस्थान की छतरियां | Rajasthan ki Chhatriyan

Join WhatsApp GroupJoin Now
Join Telegram GroupJoin Now

Rajasthan ki Chhatriyan, Rajasthan ki Parmukh Chhatriyan, Rajasthan Culture Notes PDF In Hindi, राजस्थान की प्रमुख छतरियां

राजस्थान की छतरियां | Rajasthan ki Chhatriyan

★ छतरी :-  राजा महाराजाओं को जहां जलाया जाता था उस स्थान पर उनकी स्मृति में जो इमारत बनाई जाती थी उसे छतरी कहा जाता है।

★ देवल :- जिन स्मृति स्मारकों में चरण या देवताओं की प्रतिष्ठा कर दी जाती है उसे देवल कहा जाता है।

राजवंशों के श्मशान घाट :- 

● बड़ा बाग – जैसलमेर राजवंश

● मंडोर की छतरिया – जोधपुर राजवंश

● पंचकुंडा की छतरियां – जोधपुर महारानियो की

● क्षारबाग / छत्रविलास – कोटा राजवंश

● क्षारबाग / केसरबाग – बूंदी राजवंश

● गैटोर की छतरियां – जयपुर राजवंश

● महारानी की छतरी – जयपुर राजवंश

● देवकुंड की छतरी – बीकानेर राजवंश

● आहड़ की छतरियां – मेवाड़ राजवंश

Download Rajasthan Culture Notes PDF | राजस्थान की कला एवं संस्कृति नोट्स पीडीएफ

प्रमुख छतरियां :-

★ 8 खंभों की छतरी :- बांडोली, उदयपुर में है यह महाराणा प्रताप की है इसका निर्माण अमर सिंह प्रथम ने करवाया था।

★ 8 खंभों की छतरी :- सरिस्का, अलवर में यह मिश्र जी की छतरी है।

★ 8 खंभों की छतरी :- मांडलगढ़, भीलवाड़ा में महाराणा सांगा की छतरी है जिसका निर्माण भरतपुर के अशोक परमार ने करवाया।

★ 12 खंभों की छतरी :- कुंभलगढ़ दुर्ग, राजसमंद में यह उड़ना राजकुमार पृथ्वीराज सिसोदिया की है।

★ 16 खंभों की छतरी :-  नागौर दुर्ग में अमर सिंह राठौड़ की

★ 20 खंभों की छतरी :- जोधपुर में यह सिंघवियों की छतरी है।

★ 32 खंभों की छतरी :- मांडलगढ़, भीलवाड़ा में यह जगन्नाथ कछवाहा की है जो हिंदू मुस्लिम शैली में बनी हुई है।

★ 32 खंभों की छतरी :- रणथंभौर, सवाईमाधोपुर में इसका निर्माण हमीर देव चौहान ने अपने पिता जैत्रसिंह के 32 वर्ष के शासनकाल की याद में करवाया। इसे न्याय की छतरी भी कहा जाता है।

★ 80 खंभों की छतरी :- अलवर में यह मूसी महारानी की छतरी है जिसका निर्माण विनय सिंह ने करवाया था। इस पर रामायण और महाभारत के भित्ति चित्र है।

★ 84 खंभों की छतरी :- बूंदी, इसका निर्माण 1631 में राव शत्रुशाल सिंह ने करवाया, यह तीन मंजिला छतरी है जिस पर पशु पक्षियों के चित्र है।

★ जसवंत थड़ा, जोधपुर :- इसका निर्माण महाराजा सरदार सिंह ने जसवंत सिंह द्वितीय की याद में करवाया। इसे राजस्थान का ताजमहल कहते हैं।

★ कागा की छतरी, जोधपुर :- यहाँ जोधपुर राजपरिवार की छतरियां है।

★ सेनापति की छतरी – जोधपुर

★ गोरा – धाय की छतरी – जोधपुर, इसे मारवाड़ की पन्नाधाय कहा जाता है।

★ कीरत सिंह सोढा की छतरी – जोधपुर

★ ब्राह्मण देवता की छतरी – मंडोर, जोधपुर

★ राव कल्याण की छतरी – बीकानेर

★ राणा उदयसिंह की छतरी – गोगुन्दा, उदयपुर

★ गंगा बाई की छतरी – गंगापुर, भीलवाड़ा

★ चेतक की छतरी – हल्दीघाटी, बलीचा गांव, राजसमन्द

★ बख्तावर सिंह की छतरी – मण्डोर, जोधपुर

★ दुर्गादास राठौड़ की छतरी – शिप्रा नदी के किनारे (उज्जैन)

★ जोगीदास की छतरी – उदयपुरवाटी, झुंझुनूं

★ रैदास की छतरी – चितौड़गढ़ दुर्ग

★ सन्त पीपा की छतरी – गागरोन दुर्ग

★ अप्पाजी सिंधिया की छतरी – ताऊसर, नागौर

★ नेड़ा की छतरी – सरिस्का, अलवर – यह छतरियां भित्ति चित्रों के लिए प्रसिद्ध है।

Rajasthan Culture Topic Wise Notes | राजस्थान की कला एवं संस्कृति टॉपिक वाइज नोट्स

Leave a Comment

error: Content is protected !!