Monkey Pox Virus in Hindi कोरोना के बाद बेहद खतरनाक मंकीपॉक्स वायरस, यहाँ देखें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

Join WhatsApp GroupJoin Now
Join Telegram GroupJoin Now

Table of Contents

Monkey Pox Virus in Hindi

यह एक संक्रामक बीमारी है। यह व्यक्ति के छूने, छींकने, खांसी, मल या किसी व्यक्ति के संपर्क में आने से यह फैलता है। यौन क्रिया के दौरान भी यह फैलता है। ब्लड डोनेट के दौरान भी ध्यान देने की जरूरत है। अगर मंकी पॉक्स से पीड़ित व्यक्ति ब्लड डोनेट करता है तो इससे दूसरे तक यह बीमारी पहुंच जाती है। अभी तक इस बीमारी का कोई इलाज नहीं बना है। इसका इलाज स्पेशल लैब में किया जाता है। त्वचा के घाव, पपड़ी को ठीक करने के लिए ठंडे वातावरण में एक स्टेराइल ट्यूब में पीड़ित को रखा जाता है। यह बीमारी दुर्लभ जरूर है, लेकिन गंभीर भी साबित हो सकती है। फिलहाल मंकी पॉक्स ज्यादातर मध्य और पश्चिम अफ्रीकी देशों के कुछ इलाकों में पाया जाता है। Monkey Pox Virus in Hindi

Monkey Pox Virus in Hindi

मंकी पॉक्स बीमारी एक ऐसे वायरस के कारण होती है, जो स्मॉल पॉक्स यानी चेचक के वायरस के परिवार का ही सदस्य है। मंकी पॉक्स 1958 में पहली बार एक बंदर में पाया गया था, जिसके बाद 1970 में यह 10 अफ्रीकी देशों में फैल गया था। 2003 में पहली बार अमेरिका में इसके मामले सामने आए थे। 2017 में नाइजीरिया में मंकी पॉक्स का सबसे बड़ा आउटब्रेक हुआ था, जिसके 75% मरीज पुरुष थे। ब्रिटेन में इसके मामले पहली बार 2018 में सामने आए थे।

मंकी पॉक्स बीमारी के लक्षण

इस बीमारी के शुरुआती लक्षण फ्लू जैसे होते हैं। इनमें बुखार, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, कमर दर्द, कंपकंपी छूटना, थकान और सूजी हुई लिम्फ नोड्स शामिल हैं। इसके बाद चेहरे पर एक तरह के दाने उभरने लगते हैं, जो शरीर के दूसरे हिस्सों में भी फैल सकते हैं। संक्रमण के दौरान यह दाने कई बदलावों से गुजरते हैं और आखिर में चेचक की तरह ही पपड़ी बनकर गिर जाते हैं। यह त्वचा, रेसीपेटरी ट्रैक या आँख, नाक या मुंह के जरिए शरीर में प्रवेश करता है।

  1. तेज बुखार आना
  2. तेज सिरदर्द
  3. शरीर में सूजन होना
  4. त्वचा पर लाल चकत्ते और फफोले पड़ना
  5. एनर्जी में कमी होना
  6. समय के साथ लाल चकत्ते घाव के रूप में बदलना
  7. बीमारी को 2 से 3 सप्ताह तक रहना
  8. दानों में असहनीय दर्द का होना, जोड़ों में सूजन
  9. पूरे शरीर पर गहरे लाल रंग के दाने
  10. निमोनिया
  11. मांसपेशियों में दर्द
  12. ठंड लगना
  13. अत्यधिक थकान

मंकीपॉक्स का इलाज

इस बीमारी से संक्रमित व्यक्ति एक हफ्ते में ठीक हो जाता है, मगर कुछ लोगों में ये बीमारी गंभीर हो जाती है और जानलेवा भी हो सकती है, मंकीपॉक्स का अभी कोई इलाज नहीं है। सिर्फ लक्षणों को कम करने की कोशिश की जाती है। इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति को स्मॉलपॉक्स का टीका लगाया जाता है, जो इस बीमारी को रोकने में काफी हद तक मदद करता है। साथ ही खतरा भी काफी कम तक हो जाता है। Monkey Pox Virus in Hindi

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी फिटनेस व्यवस्था या चिकित्सकीय सलाह शुरू करने से पहले कृपया डॉक्टर से सलाह लें।

Join TelegramClick Here
HomeClick Here