विद्युत नोट्स पीडीएफ | Electricity Notes PDF

Join WhatsApp GroupJoin Now
Join Telegram GroupJoin Now

Electricity Notes PDF, विद्युत नोट्स पीडीएफ, Download Electricity Notes In Hindi PDF, डाउनलोड विद्युत नोट्स, Vidhyut Notes PDF

विद्युत नोट्स पीडीएफ | Electricity Notes PDF
विद्युत नोट्स पीडीएफ | Electricity Notes PDF

Table of Contents

Electricity Notes PDF –


धारा :- विद्युत
परिपथ में किसो बिन्दु से एक सैकण्ड में गुजरने वाले इलेक्ट्रॉनों की संख्या ही विद्युत धारा कहलाती है।                          I = Q/R
I = धारा,   Q = आवेश,     T = समय (सेकंड में)
★ आवेश प्रवाह की दर को धारा कहते है ।
धारा का मात्रक – कुलाम/समय = एम्पियर

 दिष्ट धारा:- वह धारा जिसका मान समय के साथ परिवर्तित न हो और साथ ही एक निश्चित दिशा में ही परिवर्तित होती हो दिष्ट धारा कहलाती है ।
सैल या बैटरी से दिष्ट धारा प्राप्त होती है ।
दिष्ट धारा / दिष्ट विद्युत वाहक बल का आवर्तकाल अनन्त होता है ।
दिष्ट धारा का मान चल कुण्डली धारामापी के सिद्धान्त पर उपकरण अमीटर से ज्ञात किया जाता है ।
प्रत्यावर्ती धारा :-
वह धारा जिसका मान तथा दिशा लगातार आवर्तरूप में परिवर्तित होती हो , प्रत्यावर्ती धारा कहलाती हैं ।
भारत में घरेलू उपयोग के लिए विद्युत सामान्य 220V तथा 50 हर्टज की ज्यावक्रीय प्रत्यावर्ति धारा के रूप में पूर्ति की जाती है ।
आवर्तकाल :-
प्रत्यावर्ती विद्युत वाहक बल तथा प्रत्यावती धारा धारा 1 चक्र पूर्ण करने में लगा समय आवर्तकाल कहलाता है ।
ओम का नियम ( Ohm ‘ s Law } :-
 जब किसी चालक तार में धारा प्रवाहित की जाती है तो उस चालक तार के दोनों सिरों के मध्य विभवान्तर उत्पन्न होता है , उत्पन्न होने वाला वह विभवान्तर उस तार में

प्रवाहित की गई धारा के समानुपाती होता है ।
प्रतिरोध का मात्रक – ओम
विभवान्तर :- एकांक आवेश द्वारा चालक के एक सिर से दूसरे सिरे तक प्रवाहित होने में किया गया कार्य ही दोनों सिरों के मध्य विभवान्तर कहा जाता है ।
विभवान्तर का मात्रक :  वोल्ट ( V )
सेल ( Cell ) :-  सेलों द्वारा रासायनिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित किया जाता हैं ।
( 1 ) प्राथमिक सेल :- ये सेल पुन : आवेशित नहीं किये जा सकते हैं ।
 उदा:-  लेक्लांशी सेल , डेनियल सेल , वोल्टीय सेल , वूनमेंन सेल , बाइक्रोमेट सेल आदि
शुष्क रोल :- शुष्क सेल का बाह्य आवरण जस्ते ( zn ) का बना होता है ।
जस्ते की परत के अन्दर की और अमोनिय क्लोराइड, जिंक क्लोराइड व गोंद के मिश्रण की परत लगी होती है ।
सेल के अन्दर POP ( ग्लास्टर ऑफ पेरिस) , मैगनीज डाइ ऑक्साइड व कोयले का मिश्रण भरा हुआ होता है , इस मिश्रण में कार्बन की छड़ डुबी होती हैं ।
इन सेलों का विद्युत वाहक बल 1.5 Volt होता हैं ।
इनका उपयोग दीवार घड़ियों में किया जाता है ।
सेल की टॉपी पीतल की बनी होती हैं जो की धनाग्र का कार्य करती है , इसे एनोड करते हैं ।
जस्ते का पात्र ऋणाग्र ( – ) का कार्य करता है , इसे कैथौड़ कहते हैं ।
( 2 ) द्वितीयक सेल :-  ये सेल पुनः आवेशित किये जा सकते हैं । द्वितीयक सेल कहलाते है ।
उदा . :-  सीसा संचायक सेल , क्षारीय संचायक सेल, लोहा निकल सेल आदि ।
ये सेल पहले विद्युत ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में तथा बाद में रासायनिक ऊर्जा को विद्युत ऊजों में बदलते हैं ।
★ सीसा संचायक सेल :-  इन सेलों का आवरण एबोनाइट का बना होता है ।
इन सेलों की प्लेट लेड / सीसे की बनी होती है ।
लैंड की प्लेटो में लैड ऑक्साइड़ या लिथार्ज भरा हुआ होता है।
 लैड की प्लेटे गंधक का अम्ल/सल्फ्यूरिक अम्ल में डूबी होती है ।
इन खेलों का विद्युत वाहक बल 2.2 Volt होता है जो कि Discharge होते समय 1 . 8 Volt तक पहुँच जाता है ।
इन सेलों का उपयोग वाहनों की बैटरियों के रूप में किया । जाता है ।

विद्युत जनित्र ( Electric Generator ):- 
 यान्त्रिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करता है , विद्युत जनित्र ( डायनेमो ) कहलाता है ।
विद्युत जनित्र विद्युत चुम्बकीय प्रेरण के सिद्धान्त पर कार्य करता है ।
विद्युत जनित्र ( डायनेमो ) का आविष्कार – माइकल फैराडे ।
विद्युत जनित 2 प्रकार के :-  ( 1 ) प्रत्यावर्ती धाराजनित्र
( 2 ) दिष्ट धारा जनित्र

विद्युत जनित्र के भाग:- 
( 1 ) आर्मेचर – यह कच्चे लोहे के ढाँचे पर लिपटे विद्युतरोधी ताँबे के तार की अनेक फेरों वाली एक कुण्डली होती है ।
( 2 ) चुम्बकीय क्षेत्र ।
( 3 ) सर्पिवलय – दो होते हैं व धातु के बने होते हैं ।
( 4 ) कार्बन के बने होते हैं ।
दिष्ट धारा जनित्र व प्रत्यावर्ती धारा जनित्र की बनावट लगभग एक जैसी ही होती हैं , अन्तर केवल इतना है कि दिष्ट धारा जनित्र में सर्पिवलय के स्थान पर विभक्त वलय / दिक् परिवर्तक ( DC में ) प्रयुक्त किये जाते है ।

विद्युत संयोजन (Electric connection Arranginent ) :-
विद्युत उपकरणों के संयोजन के दो प्रकार से किया जाता है।
( 1 ) श्रेणी क्रम संयोजन
( 2 ) समान्तर क्रम संयोजन
( 1 ) श्रेणी क्रम संयोजन :- इस संयोजन में सभी चालक तारों में प्रवाहित धारा ( I ) का मान एक समान होता है परन्तु विभवांतर (V) अलग – अलग होता है ।
( 2 ) समान्तर क्रम संयोजन :-  इस संयोजन में सभी प्रतिरोधारो ( तारों ) के सिरों पर विभवान्तर समान होता है ,
परन्तु इनमें प्रवाहित धारा का मान अलग अलग होता है ।
घरों में विद्युत उपकरणों को समान्तर क्रम संयोजन में लगाया जाता है , इसमें एक परिपथ की खराबी का असर अन्य परिपथों पर नहीं पड़ता ।
विद्युत ऊर्जा को किलोवाट घण्टा ( KWH ) में मापा जाता है , जिसे साधारण बोलचाल में यूनिट कहते हैं ।
विद्युत व्यय की गणना :- 
 विद्युत खर्च की गणना का सूत्र = वाट×घण्टा×दिन/1000 
विद्युत चुम्बकीय प्रेरण :-  
यह “फैराडै” द्वारा प्रदान किया गया ।
किसी कुण्डली एवं चुम्बक के मध्य जब सापेक्ष गति करवाई जाती है तो कुण्डली में विद्युत उत्पन्न होती है । इसी घटना को विद्युत चुम्बकीय प्रेरण करते है ।
चुम्बकीय फ्लक्सः- 
किसी निश्चित क्षेत्रफल में गुजरने वाली चुकीय बल रेखाओं की संख्या चुम्बकीय फ्लक्स कहलाते हैं ।
फ्लक्स का मात्रक – वेबर
फ्लक्स का चिंह –  ¢( फाई ) होता है ।

Electricity Notes PDF, विद्युत नोट्स पीडीएफ

ट्रांसफार्मर (Tronsformor) :-
आविष्कार – माइल फैराड़े
( 1 ) यह ऐसी युवित होती है , जिसकी सहायता से प्रत्यावर्ती वोल्टता ( A . C ) को कम या ज्यादा किया जा सकता हैं । इसे दिष्ट धारा के लिए उपयोग नहीं किया जाता है ।
( 2 ) ट्रांसफार्मर पटलित क्रोड ( Laminaled core ) से बना होता है , इसमें नर्म लोहा होता है ।
ट्रांसफार्मर 2 प्रकार के:-
( a ) अपचायी ट्रांसफार्मर – ऐसे ट्रांसफार्मर जो उच्च वोल्टता को निम्न वोल्टता में बदल देते है ।
( b ) उच्चाई ट्रांसफार्मर – ऐसे ट्रांसफार्मर जो निम्न वोल्टता को उच्च वोल्टता में बदल देते हैं ।
विद्युत का दैनिक जीवन में उपयोग :- 
( 1 ) घरों में आने वाली धारा AC होती है ।
 ( 2 ) धरों में आने वाली धारा की वोल्टता 220 V होती है ।
( 3 ) घरों में आने वाली धारा की आवृति 50 हर्ट्ज ( चक्र प्रति सैकण्ड ) होती है ।
( 4 ) घरों में विद्युत संयोजन व्यवस्था समान्तर क्रम में होती हैं ( 5 ) रोड़ लाईटो का संयोजन श्रेणीक्रम में होता है ।
फ्यूज ( Fuse ):- 
 ( 1 ) फ्यूज एक पतला तार हैं जो कम गलनाक तथा उच्च प्रतिरोध वाले मिश्र धातु का बना होता है , फ्युज तार को श्रेणी क्रम में लगाते हैं ।
( 2 ) फ्यूज तार का गर्म होकर पिघलना परिपथ विच्छेदन कहते हैं ।
( 3 ) आजकल फ्युज तार की जगह MCB ( लघू परिपथ विच्छेदक / miniature Circul Braker ) का उपयोग किया जाता है , जो स्विच की भांति होता है ।
( 4 ) फ्यूज तार टिन + लैड ( Sn + Pb ) का बना होता है ।

ऊर्जा रूपांतरण करने वाली कुछ युक्तियां :-
युक्ति                  –                ऊर्जा का रूपांतरण
डायनेमो             –      यांत्रिक ऊर्जा को विद्यत ऊर्जा में
ट्यूब लाइट          –     विद्युत ऊर्जा को प्रकाश ऊर्जा में
विद्युत बल्ब       –    विद्युत ऊर्जा को प्रकाश व ऊष्मा ऊर्जा में
लाउडस्पीकर    –     विद्युत ऊर्जा को ध्वनि ऊर्जा में
मोमबत्ती –  रासायनिक ऊर्जा को प्रकाश व ऊष्मा ऊर्जा में
माइक्रोफोन  –    ध्वनि ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में
विद्युत सेल    –    रासायनिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में
सितार       –       यांत्रिक ऊर्जा को ध्वनि ऊर्जा में

Download Maths & Reasoning Notes, Practice Sets PDF

Download Science Notes & Questions PDF

Download All Subject Notes PDF

Leave a Comment