राजस्थान की प्राचीन सभ्यताएं | Ancient Civilizations of Rajasthan

Ancient Civilizations of Rajasthan, Rajasthan ki Prachin Sbhytaye, राजस्थान की प्राचीन सभ्यताएं, Rajasthan ki Prmukh Sbhytaye

राजस्थान की प्राचीन सभ्यताएं :-

1. कालीबंगा सभ्यता

● स्थान – हनुमानगढ़

● नदी – सरस्वती, वर्तमान घग्घर नदी

● खोज – 1951-52 में अमलानन्द घोष

● उत्खनन – 1961-69 बी.बी. लाल, बी.के.थापर (9 चरणों मे)

● शाब्दिक अर्थ – काली चूड़ियां

प्रमुख अवशेष :-

● वार्ताकार आकृति में बसी हुई नगरीय सभ्यता।

● नगर के बीचों – बीच समकोण पर बनी कच्ची व पक्की सड़के, सड़कों के बीच बने हुए चौराहों को ऑक्सफोर्ड सर्कस कहा जाता है।

● सड़को के किनारे बने मकानों के दरवाजे पीछे की ओर खुलना, गलियों में पानी की निकासी हेतु पक्की एवं ढकी हुई नालियां।

● सात हवन वेदीकाएं प्राप्त हुई जो धार्मिक प्रवर्ति को स्पष्ट करती है।

● काली चूड़ियों के अवशेष प्राप्त हुए है जिसके आधार पर सभ्यता को कालीबंगा नाम दिया है।

● ईंटो का बना हुआ अलंकृत फर्श तथा पशु-पक्षियों की मूर्तियां प्राप्त हुई है।

● विशेष प्रकार के छिद्रित तंदूरी चूल्हे।

● एक छिद्रित कपाल खंड प्राप्त हुआ है, जो शल्य चिकित्सा का प्रमाण है।

● छः खंडों में विभक्त लाल धूसर रंग के मृदभांड, कुम्हार का चाक, तथा गोलाकार कुआँ।

ईंट :- यहां से कच्ची, पक्की और अलंकृत ईंटे प्राप्त हुई है, इन ईंटो का प्रयोग भवन, सड़क, नाली निर्माण में तथा साज सज्जा में किया जाता है।

खेत :- विश्व में सर्वप्रथम जूते हुए खेतों के अवशेष कालीबंगा से प्राप्त हुए हैं, इन खेतों को ग्रिड / जाल पद्धति पर दो बार जोता गया है। संभवतया चना व सरसों की फसल एक साथ बोते थे।

मुहर :- कालीबंगा से एक सींग वाले बेल की मिट्टी व टेराकोटा की बनी मुहरें प्राप्त हुई है, ऐसी ही मुहर 1919 में टेस्सीटोरी ने बीकानेर के सोंथि से प्राप्त की थी, जिसके कारण सोंथि को प्रथम कालीबंगा कहा जाता है।

भूकंप :- यहां से सर्वप्रथम भूकंप के अवशेष प्राप्त हुए हैं जो सम्भवतया इस सभ्यता के पतन का कारण था।

नोट :- ऋग्वेद में कालीबंगा और सरस्वती नदी का उल्लेख प्राप्त होता है।

● संस्कृत साहित्य में प्रयोग किया गया शब्द ‘बहुधान्यदायक क्षेत्र’ संभवतया यही है।

● कालीबंगा सभ्यता से त्रिस्तरीय युग (प्राक हड़प्पा, हड़प्पाकालीन, हड़प्पोत्तर काल) के अवशेष प्राप्त हुए हैं, यहां से 2400 ई.पू. से 1700 ई.पू. के अवशेष मिले हैं।

● सरस्वती नदी में बाढ़ आने के कारण संभवतया इस सभ्यता का पतन हो गया था।

डॉ. दशरथ शर्मा :- कालीबंगा को सिंधु सभ्यता की तीसरी राजधानी कहा है। (प्रथम – हड़प्पा, दूसरी – मोहनजोदड़ो) (Ancient Civilizations of Rajasthan)

यह भी पढ़ें>> सम्पूर्ण राजस्थान का भूगोल नोट्स

2. आहड़ सभ्यता

● स्थान – उदयपुर

● नदी – बनास

● खोजकर्ता – अक्षयकीर्ति व्यास – 1953

● उत्खनन – आ. सी. अग्रवाल व एचडी सांकलिया – 1956 में

● उपनाम – बनास सभ्यता, धूलकोट, ताम्रवती नगरी, आघाटपुर, प्रेतनगरी

प्रमुख अवशेष :-

● बस्तीनुमा बसावट

● ग्रामीण सभ्यता

● खंडित हवनवेदिका तथा उसके पास से हड्डियों, जौ, तिल, पीली सरसों के अवशेष

● बलि प्रथा का प्रचलन

● मांसाहारी जनजीवन

● लाल भूरे और काले रंग के मृदभांड जिन्हें गौरे व कोठ कहा जाता था।

● रसोईघर से ताम्र के बने हुए भोज्य पात्र तथा 6 चूल्हे प्राप्त हुए हैं।

● सामूहिक जनजीवन का प्रचलन

● पशुपालन अर्थव्यवस्था का मुख्य स्रोत।

● तांबे की 6 यूनानी मुद्राएं तथा तीन मुहरें प्राप्त हुई है।

● विदेशी व्यापार का प्रचलन था।

● टेराकोटा की बनी हुई वर्षभ आकृति वाली मुहरे जिसे ‘बनासियन बुल’ कहा गया है।

● मकानों की छत बांस की लकड़ियों से ढकी हुई तथा उनके ऊपर मिट्टी का लेप किया गया था।

● यहां से ताम्र कुल्हाड़ियां भी मिती है।

● नोट :- यह सभ्यता 4000 वर्ष पुरानी है। गोपीनाथ शर्मा ने इसे 1900 ई.पू. – 1200 ई.पू. के मध्य माना

3. गणेश्वर सभ्यता

● स्थान – नीमकाथाना, सीकर

● खोज – वीरेंद्रनाथ मिश्र – 1977

● उत्खनन – आर सी अग्रवाल – 1977

● नदी – कांतली नदी

नोट :- गणेश्वर को ‘ताम्रयुगीन सभ्यताओं की जननी’ तथा आहड़ को ‘ताम्रवती नगरी’ सभ्यता और खेतड़ी को ‘ताम्र नगरी’ कहा जाता है।( Ancient Civilizations of Rajasthan)

प्रमुख अवशेष :- कांतली नदी के दोनों तरफ बसी हुई।

● ग्रामीण सभ्यता

● नदी के दोनों तरफ पत्थर के बांध जो विश्व का पहला उदाहरण है।

● नदी की तलहटी में हिरण, केकड़ा, बारहसिंघा मछली के अवशेष।

● कच्चा एवं पक्का मांस तथा कच्चे चूल्हे।

● ताम्र को गलाने वाले उपकरण तथा औजार बनाने के कारखाने।

● ताम्र के बने प्रमुख हथियार जैसे – कुल्हाड़ी, चाकु, तीर, त्रिशूल, मछली पकड़ने के कांटे।

● ताम्र की बनी सौंदर्य प्रसाधन सामग्री – कांच, कंघा, सुरमेदानी।

● ताम्र के बने हुए भोज्य पात्र।

● पशुपालन अर्थव्यवस्था का मुख्य स्रोत।

● नोट – यह सभ्यता 2700 ई.पू. स्थित थी।

4. बैराठ सभ्यता

● स्थान – जयपुर

● नदी – बाणगंगा

● खोज – कैप्टन बर्ट – 1837

● उत्खनन – दयाराम साहनी – 1936-37

प्रमुख अवशेष :-

बीजक की पहाड़ी :- भाब्रू शिलालेख – विराट नगर के भाब्रू गांव से 1837 में कैप्टन बर्ट ने अशोक का एकमात्र बेलनाकार शिलालेख प्राप्त किया था। यह शिलालेख अशोक बौद्ध धर्म का अनुयाई होने का सबसे बड़ा प्रमाण है। (Ancient Civilizations of Rajasthan)

● इस शिलालेख से 7 बौद्ध ग्रंथों का उल्लेख मिलता है।

● वर्तमान में यह शिलालेख कलकत्ता संग्रहालय में रखा गया है।

मुद्राएं :- बीजक की पहाड़ी से एक चमकीले मृदभांड जिस पर स्वास्तिक का चित्रांकन था, से 36 मुद्राएं प्राप्त हुई है। इनमें से आठ मुद्रा चांदी की पंचमार्क मुद्रा हऊ तथा 26 मुद्रा यूनानी मुद्राएं है जिनमे से 16 मुद्रा यूनान के शासक मिनेण्डर के काल की है।

ह्वेनसांग :- चीनी यात्री का का आगमन बीजक की पहाड़ी पर हुआ था, ह्वेनसांग ने यहां रहकर पांच बौद्ध ग्रंथों का अध्ययन किया था।

● ह्वेनसांग ने बैराठ में 8 बौद्ध मठों के अवशेष मिले हैं, बैराठ से मिले अवशेषों के आधार पर प्रमाणित होता है कि – ‘यह हीनयान बोध धर्म का प्रमुख केंद्र था’

गणेश डूंगरी :- यहां से खंडित गोल गुंबद वाले बोध मठो के अवशेष प्राप्त हुए हैं, यही से 1872 में लोहे के संदूक में महात्मा बुध की खंडित प्रतिमा प्राप्त हुई है।

भीम डूंगरी :- यहां से महाभारतकालीन अवशेष प्राप्त हुए है।

विराटनगर :- यहां से लोहे के औजार व लोहे को गलाने वाली भट्टियां प्राप्त हुई है।

● यहां से मिले औजारों में भाला प्रमुख हथियार था। तैयार था जिसे ‘हारफुन’ नाम दिया है।

● बैराठ से मिलता-जुलता भाला भरतपुर के घना पक्षी विहार के मल्हा गांव से प्राप्त हुआ है।

5. बागौर सभ्यता

● भीलवाड़ा जिले में कोठारी नदी के किनारे प्रसिद्ध प्रागेतिहासिक स्थल बागोर स्थित है।

● इसकी खुदाई 1967-71 के मध्य वीरेंद्रनाथ मिश्र के द्वारा की गई थी।

● बागोर से पाषाण कालीन पत्थर के औजारों के विशाल भंडार मिला है जो भारत में पाषाण कालीन औजारों का सबसे बड़ा भंडार है।

● यहां जली हुई हड्डियां, पांच नर कंकाल, मांस के भुने जाने के साक्ष्य मिले हैं।

6. बालाथल सभ्यता

● उदयपुर जिले में स्थित बालाथल ग्राम में 1993 में वीरेंद्र नाथ मिश्र के नेतृत्व में उत्खनन कार्य किया गया।

● बालाथल उत्खनन में हड़प्पा संस्कृति से समानता रखने वाले मृदभांड मिले हैं जो बालाथल का हड़प्पा सभ्यता से निकट सम्पर्क का परिणाम था।

● ताम्रपाषाणिक स्थल बालाथल से तांबे के विभिन्न उपकरणों सहित तांबे के सिक्के भी मिले हैं जिन पर हाथी और चंद्रमा की आकृतियां उत्कीर्ण है।

● खुदाई में हाथ से बुने हुए कपड़े का टुकड़ा भी मिला है जो लगभग 500 ईसा पूर्व का है।

● बालाथल की खुदाई में लोहे के औजार व लोहा गलाने की 5 भट्टियां मिली है। (Ancient Civilizations of Rajasthan)

यह भी पढ़ें>> राजस्थान का इतिहास नोट्स पीडीएफ

7. नगर (टोंक)

● नगर सभ्यता को खेड़ा सभ्यता भी कहा जाता है। यह मालव जनपद का प्रमुख स्थान था। खुदाई में 6000 तांबे के सिक्के मिले हैं जो मालव जनपद के हैं।

● नगर से शुंगकालीन स्लेटी पत्थर से बनी महिषासुरमर्दिनि की प्रतिमा, कुषाणकालीन रती कामदेव की मूर्ति, पत्थर पर मोदक रूप में गणेश का अंकन, कमल धारण किए हुए लक्ष्मी की प्रतिमा मिली है।

8. गिलूण्ड (राजसमन्द)

● राजसमंद जिले में स्थित गिलूण्ड कस्बे में बनास नदी के किनारे दो टीलों की खुदाई 1957-58 में बी.बी.लाल के नेतृत्व में हुई थी।

● यहां से ताम्र युगीन सभ्यताओं के अवशेष मिले हैं इस सभ्यता का 1700 – 1300 ई.पू. माना जाता है।

● यहां से काले रंग से चित्रित पात्रों पर नृत्य मुद्राएं एवं चिकतेदार हरिण का अंकन मिला है।

9. नगरी (चितौड़गढ़)

● नगरी राजस्थान में उत्खनित प्रथम स्थल माना जाता है। नगरी में खुदाई 1904 में डी.आर. भंडारकर द्वारा की गई थी।

● नगरी को प्राचीन काल में ‘माध्यमिक’ नाम से जाना जाता था।

● नगरी की खुदाई मेल लेखांकित पाषाण खंड, मृण्मय कलाकृतियां और मूर्तिखंड तथा गुप्तयुगीन एक मंदिर जिसमें शिव की मूर्ति प्रतिष्ठित थी आदि मिले हैं।

● यहां से पांचवी शताब्दी में निर्मित नटराज शिव की मूर्ति प्राप्त हुई है जो राजस्थान में नटराज की मूर्ति के निर्माण का प्राचीनतम साक्ष्य है।

10. रंगमहल (हनुमानगढ़)

● हनुमानगढ़ जिले में घग्घर नदी के तट पर स्थित रंगमहल की खुदाई 1952 में स्वीडन की पुरातत्वविद डॉ. हन्नारीड के निर्देशन में हुआ था।

● यहां की सभ्यता कुषाणकालीन एवं पूर्व गुप्तकालीन सभ्यता के समान है। रंग महल से घंटाकार मृदपात्र, टोंटीदार घड़े, प्याले, कटोरे, बर्तनों के ढक्कन, दीपक, दीपदान आदि प्राप्त हुए हैं।

● यहां से अनेक मृण्मूर्तियां मिली हैं जिनमें गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण का अंकन सर्वप्रमुख है यह मूर्तियां गांधार शैली की है।

11. नोह (भरतपुर)

● भरतपुर जिले में नोह गांव में 1963-64 में श्री रतनचन्द्र अग्रवाल के निर्देशन में की गई खुदाई में ताम्रयुगीन सभ्यता के अवशेष मिले हैं।

● यहां उत्खनन में पांच सांस्कृतिक युगों के अवशेष मिले हैं।

● लोहे से कच्ची ईंटों से बना एक परकोटा जो प्रथम शताब्दी ईसा पूर्व का माना जाता है, लाल रंग के साधारण बर्तनों के टुकड़े, मित्र शासकों के तांबे के सिक्के आदि प्राप्त हुए है।

● प्रस्तर निर्मित विशालकाय यक्ष प्रतिमा (जाख बाबा) जो शुंगकालीन मानी जाती है नोह से प्राप्त महत्वपूर्ण कलाकृति है। (Ancient Civilizations of Rajasthan)

12. रैढ़ (टोंक)

● रैढ़ से तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व से द्वितीय शताब्दी तक के अवशेष मिले है।

● रैढ़ प्राचीन भारत के ‘टाटा नगर’ के रूप में प्रसिद्ध है।

● यहां से लगभग 3,000 आहत मुद्राएं मिली है, जिनमें मालव तथा मित्र शासकों एवं अपोलाडोन्ट्रस का सिक्का तथा इण्डोससेनियन सिक्के प्रमुख हैं।

13. नलियासर (जयपुर)

● जयपुर जयपुर जिले में सांभर के पास स्थित नलियासर से खुदाई में आहत मुद्राएं, उत्तर इण्डोससेनियन सिक्के, इंडोग्रीक सिक्के, गुप्तयुगीन चांदी के सिक्के प्राप्त हुए है।

● नलियासर से प्राप्त सामग्री के आधार पर यह अनुमान लगाया जाता है कि यह स्थल तीसरी शताब्दी पूर्व से चौहान युग तक कि संस्कृति का केंद्र रहा है।

14. ओझियाना (भीलवाड़ा)

● ओझियाना के उत्खनन में प्राप्त मृदपात्र परंपरा एवं भवन संरचना के आधार पर इस संस्कृति का विकास तीन चरणों में हुआ माना जाता है।

● यहां से प्राप्त पूरासामग्री में वर्षभ एवं गाय की मृण्मय मूर्तियां, मृण्मय खिलौना, गाड़ी के पहिए, सिलबट्टा, प्रस्तर हथोड़ा, गोल छेद वाला पत्थर आदि प्रमुख है।

15. सुनारी (झुंझुनूं)

● खेतड़ी तहसील के सुनारी गांव में कांतली नदी के तट पर खुदाई में अयस्क से लोहा बनाने की भट्टियों के अवशेष प्राप्त हुए है। ये भारत की प्राचीनतम भट्टियां मानी जाती है।

● यहां से लोहे के तीर, भाले के अग्रभाग, लोहे का कटोरा तथा कृष्ण परिमार्जित मृदपात्र भी मिले हैं जो मौर्ययुगीन माने जाते हैं।

● सुनारी के निवासी चावल का प्रयोग करते थे, घोड़ों से रथ खींचते थे तथा साधारण मकान में रहते थे। यहाँ मातृ देवी के मृणमूर्तियां और धान संग्रहण का कोठा भी मिला है।

16. तिलवाड़ा (बाड़मेर)

● लुणी नदी के तट पर स्थित तिलवाड़ा की सभ्यता का काल 500 से 200 ई.पू. माना जाता है।

Ancient Civilizations of Rajasthan

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top