UPSC सिविल सर्विसेज परीक्षा सिलेबस (प्रारम्भिक एवं मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम)


IAS Syllabus In Hindi
सिविल सर्विसेज परीक्षा पाठ्यक्रम



यूपीएससी आईएएस एग्जाम  पैटर्न


यूपीएससी प्रति वर्ष सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन कराता है जिसे हम आईएएस एग्जाम के नाम से भी जानते हैं। यूपीएससी विभिन्न सेवाओ के लिए लगभग दर्जन भर परीक्षाओ का आयोजन करता है, जैसे अभियांत्रिकी, चिकित्सा, वन सेवा इत्यादि। इस आलेख में हम यूपीएससी आईएएस परीक्षा पैटर्न के बारे में जानेंगे। इस परीक्षा में तीन चरण होते है पहला है प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam) दूसरा है मुख्य परीक्षा (Main Exam) और तृतीय है साक्षात्कार अथवा व्यक्तित्व परिक्षण (Interview / Personality Test). प्रत्येक अभ्यर्थी को इन चरणों से गुजरना होता है और तभी वह एक ऑफिसर बनता है। आगे हम इस सभी चरणों तथा इनके पैटर्न के बारे में विस्तार से समझेंगे।



प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam) :-



प्रारम्भिक परीक्षा में वस्तुपरक (बहुविकल्पीय प्रश्न) प्रकार के दो प्रश्न पत्र होंगे तथा अधिकतम 400 अंक होंगे । यह परीक्षा केवल परीक्षण के रूप में होगी मुख्य परीक्षा में प्रवेश हेतु अर्हता प्राप्त करने वाले उम्मीदवार द्वारा प्रारंभिक परीक्षा में प्राप्त किये गये अंकों को उनके अंतिम योग्यता क्रम को निर्धारित करने के लिए नहीं गिना जायेगा। मुख्य परीक्षा में प्रवेश दिये जाने वाले उम्मीदवारों की संख्या उक्त वर्ष में विभिन्न सेवाओं तथा पदों में भरी जाने वाली रिक्तियों की कुल संख्या का लगभग बारह से तेरह गुना होगी। केवल वे ही उम्मीदवार जो आयोग द्वारा किसी वर्ष की प्रारंभिक परीक्षा में अर्हता प्राप्त कर लेते हैं, उस वर्ष की प्रधान परीक्षा में प्रवेश के पात्र होंगे । बशर्ते कि वे अन्यथा प्रधान परीक्षा में प्रवेश हेतु पात्र हो, जो उम्मीदवार मुख्य परीक्षा के लिखित भाग में आयोग के निर्धारित न्यूनतम अर्हक अंक प्राप्त करते हैं उन्हें  व्यक्तित्व परीक्षण के लिए साक्षात्कार हेतु बुलाया जायेगा। रैंक का निर्धारण करने के लिए प्राप्तांकों को गिना जायेगा। साक्षात्कार के लिए बुलाये जाने वाले उम्मीदवारों की संख्या भरी जाने वाली रिक्तियों की संख्या से लगभग दो गुना होगी। 
इस प्रकार उम्मीदवारों द्वारा मुख्य परीक्षा (लिखित भाग तथा साक्षात्कार) में प्राप्त किये गये अंकों के आधार पर अंतिम तौर पर उनके रैंक का निर्धारण किया जाएगा। उम्मीदवारों को विभिन्न सेवाओं का आबंटन परीक्षा में उनके रैंकों तथा विभिन्न सेवाओं और पदों के लिए उनके द्वारा दिये गये वरीयता क्रम को ध्यान में रखते हुए किया जायेगा ।

★ प्रारम्भिक परीक्षा की रूपरेखा तथा विषय :- 

प्रश्न पत्र
अवधि
प्रश्न
अंक
प्रश्न पत्र -I सामान्य अध्ययन
2 घण्टे
100
200
प्रश्न पत्र - II अभिक्षमता
2 घण्टे
80
200
सम्पूर्ण - 400 अंक
नोट - ● दोनों ही प्रश्न पत्र वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे। 
● प्रश्न पत्र हिन्दी तथा अंग्रेजी दोनों ही भाषाओ में तैयार किये जायेंगे। 
● प्रत्येक प्रश्न पत्र 2 घण्टे की अवधि का होगा। 

★ प्रारंभिक परीक्षा हेतु पाठ्य विवरण :-

(क)  प्रश्न पत्र - I :- सामान्य अध्ययन 
◆ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की सामयिक घटनाएं । 
◆ भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन । 
◆ भारत एवं विश्व भूगोल - भारत एवं विश्व का प्राकृतिक, सामाजिक, आर्थिक भूगोल। 
◆ भारतीय राज्यतन्त्र और शासन - संविधान, राजनैतिक प्रणाली, पंचायतीराज, लोकनीति अधिकारों संबंधी मुद्दे आदि। 
◆ आर्थिक और सामाजिक विकास - सतत् विकास, गरीबी समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र में की गई पहल आदि ।
◆ पर्यावरणीय पारिस्थितिकी जैव - विविधता और मौसम परिवर्तन संबंधी सामान्य मुद्दे जिनके लिए विषयगत विशेषज्ञता आवश्यक नहीं है 
◆ सामान्य विज्ञान 

प्रश्न पत्र - II :- अभिक्षमता परीक्षा 
◆ बोधगम्यता संचार कौशल सहित अंतर - वैयक्तिक कौशल 
◆ तार्किक कौशल एवं विश्लेषणात्मक क्षमता 
◆ निर्णय लेना और समस्या समाधान
◆ आधारभूत संख्यनन (संख्याएं और उनके संबंध, विस्तार क्रम आदि) (दसवीं कक्षा का स्तर) आंकड़ों का निर्वचन (चार्ट, ग्राफ, तालिका, आंकड़ों की पर्याप्तता आदि - दसवीं कक्षा का स्तर) 
नोटः सिविल सेवा (प्रा.) परीक्षा का प्रश्न पत्र - II जिसका न्यूनतम अंक 33% सुनिश्चित किया गया है ।




मुख्य परीक्षा (Mains Exam) :-


चयन :- वे ही उम्मीदवार जो आयोग द्वारा आयोजित प्रारम्भिक परीक्षा में अर्हता प्राप्त कर लेते है। मुख्य परीक्षा में प्रवेश के पात्र होंगे। 

★ मुख्य परीक्षा की रूपरेखा एवं विषय :-

क्र. सं.
प्रश्न पत्र
विषय
अंक
1
प्रश्न पत्र A
भारतीय भाषा (अहर्ता हेतु)
300
2
प्रश्न पत्र B
अंग्रेजी भाषा (अर्हता हेतु)
300
3
प्रश्न पत्र I 
निबन्ध
250
4
प्रश्न पत्र II
सामान्य अध्ययन - I
250
5
प्रश्न पत्र III
सामान्य अध्ययन - II
250
6
प्रश्न पत्र IV
सामान्य अध्ययन - III
250
7
प्रश्न पत्र V
सामान्य अध्ययन - IV
250
8
प्रश्न पत्र VI
वैकल्पिक विषय प्रश्नपत्र - I
250
9
प्रश्न पत्र VII
वैकल्पिक विषय प्रश्नपत्र -II
250


योग 
1750


साक्षात्कार
275


सम्पूर्ण योग
2025
नोट :- ● परीक्षा के प्रश्न पत्र विवरणात्मक प्रकार के होंगे। 
● प्रत्येक प्रश्न पत्र 3 घण्टे की अवधि का होगा। 

★ मुख्य परीक्षा के लिए वैकल्पिक विषयों की सूची 

समूह - 1 :- कृषि विज्ञान, पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान, ग्रहविज्ञान, वनस्पति विज्ञान, रसायन विज्ञान, सिविल इंजीनियरी, वाणिज्य शास्त्र तथा लेखा विधि, अर्थशास्त्र, विद्युत इंजीनियरी भूगोल, भू - विज्ञान, इतिहास, विधि, प्रबंधन, गणित, यांत्रिक इंजीनियरी, चिकित्सा विज्ञान, दर्शन शास्त्र, भौतिकी, राजनीति विज्ञान तथा अन्तर्राष्ट्रीय संबंध, मनोविज्ञान, लोक प्रशासन, समाज शास्त्र, सांख्यिकी, प्राणी विज्ञान 
समूह - 2 :- निम्नलिखित भाषाओं में से किसी एक भाषा का साहित्य : - असमिया, बंगाली, बोडो, डोगरी, गुजराती, हिन्दी, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मैथिली, मलयालम, मणिपुरी, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत, संताली, सिंधी, तमिल, तेलुगु, उर्दू और अंग्रेजी ।

★ मुख्य परीक्षा हेतु पाठ्य विवरण :- 

प्रश्नपत्र A :- भारतीय भाषाएँ :- 
◆ दिये गये अवतरणों को समझना, संक्षेपण, शब्द प्रयोग तथा शब्द भंडार, लघु निबंध, अंग्रेजी में भारतीय भाषा तथा भारतीय भाषा से अंग्रेजी में अनुवाद ।

 प्रश्न पत्र B :- अंग्रेजी :- 
◆ दिये गये गद्यांश को समझना, संक्षेपण, शब्द प्रयोग तथा शब्द भंडार, लघु निबंध । 

 प्रश्न - I - निबंध - अंक 250
◆ उम्मीदवार को दिये गये विषयों से संबंधित विकल्पों में से एक विनिर्दिष्ट विषय पर निबंध लिखना होगा । विषयों के विकल्प दिये जाएगे । 

 प्रश्न पत्र - II - सामान्य अध्ययन - I :-
◆ भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व का इतिहास एवं भूगोल और समाज ( अंक : 250 ) 

प्रश्न पत्र - III - सामान्य अध्ययन - II :-
◆ शासन व्यवस्था, शासन प्रणाली, सामाजिक न्याय तथा अंतरराष्ट्रीय सम्बन्ध (अंक - 250)

प्रश्न पत्र - IV - सामान्य अध्ययन - III :-
◆ प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन (अंक - 250)

प्रश्न पत्र - V - सामान्य अध्ययन - IV :-
◆ नीति शास्त्र, सत्यनिष्ठा, और अभिरुचि (अंक -250)

प्रश्न पत्र VI एवं प्रश्न पत्र VII - वैकल्पिक विषय एवं भाषा साहित्य :- 
◆ ऊपर दिए गए वैकल्पिक विषयों एवं भाषा साहित्य में से एक




साक्षात्कार (Interview) :-



साक्षात्कार परीक्षण :- 
 उम्मीदवार का साक्षात्कार एक बोर्ड द्वारा होगा, जिसके सामने उम्मीदवार के परिचयवृत्त का अभिलेख होगा. उससे सामान्य रुचि की बातों पर प्रश्न पूछे जायेंगे। यह साक्षात्कार इस उद्देश्य से होगा की सक्षम और निष्पक्ष प्रेक्षकों का बोर्ड यह जान सके कि उम्मीदवार लोक सेवा के लिए व्यक्तित्व की दृष्टि से उपयुक्त है या नहीं। यह परीक्षा उम्मीदवार की मानसिक क्षमता को जांचने के अभिप्राय से की जाती है। मोटे तौर पर इस परीक्षा का प्रयोजन वास्तव में न केवल उसके बौद्धिक गुणों को अपितु उसे सामाजिक लक्षणों और सामाजिक घटनाओं में उसकी रुचि का भी मूल्यांकन करना है। इसमें उम्मीदवार की मानसिक सतर्कता, आलोचनात्मक ग्रहण शक्ति, स्पष्ट और वर्क संगत प्रतिपादन की शक्ति, संतुलित निर्णय की शक्ति, रुचि की विविधता और गहराई, नेतृत्व और सामाजिक संगठन की योग्यता, बौद्धिक और नैतिक ईमानदारी की भी जांच की जा सकती है ।