राजस्थान की स्थिति, विस्तार एवं भौगोलिक प्रदेश नोट्स

Rajasthan ki sthiti vistar avn bhotik prdesh in hindi
राजस्थान की स्थिति, विस्तार एवं भौगोलिक प्रदेश नोट्स


                        राजस्थान भारत के उत्तर - पश्चिम में स्थित है तथा क्षेत्रफल की दृष्टि से देश का सबसे बड़ा राज्य            (1 नवम्बर, 2000 को मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ के अलग होने के बाद) है । इसका क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी (132140 वर्ग मील) है , जो भारत के कुल क्षेत्रफल का 10.41 % है । राज्य के मध्य में उत्तर-पूर्व से दक्षिण-पश्चिम तक फैली अरावली पर्वतमाला इसे जलवायु एवं भू - धरातल की दृष्टि से दो असमान भागों में विभाजित करती है । राजस्थान की भौगोलिक स्थिति को निम्न प्रकार समझा जा सकता है:-

स्थिति :- 
अक्षांशीय स्थिति :- 
  23°3 ' उत्तरी अक्षांश से 30°12 ' उत्तरी अक्षांश
( अक्षांशीय विस्तार 7°9' )
देशान्तरीय स्थिति :-
 69°30 ' पूर्वी देशान्तर से 78°17 ' पूर्वी देशान्तर
 ( देशान्तरीय विस्तार 8°47 )

● कर्क रेखा (23°30' उत्तरी अक्षांश रेखा) राज्य में डूंगरपुर जिले की दक्षिणी सीमा से होती हुई बाँसवाड़ा जिले के लगभग मुध्य में से गुजरती है ।
● बाँसवाड़ा शहर कर्क रेखा से राज्य का सर्वाधिक नजदीक स्थित शहर है ।
● कर्क रेखा के उत्तर में होने के कारण जलवायु की दृष्टि से राज्य का अधिकांश भाग उपोष्ण या शीतोष्ण कटिबन्ध में स्थित हैं । बाँसवाड़ा जिले का अधिकांश भाग उष्ण कटिबंध में है ।

★ उत्तर से दक्षिण तक राज्य की लम्बाई 826 किमी व विस्तार उत्तर में कोणा गाँव ( गंगानगर ) से दक्षिण में बोरकुंड गाँव ( कुशलगढ़ , बाँसवाड़ा ) तक है ।
★ पूर्व से पश्चिम तक राज्य की चौड़ाई 869 किमी तथा विस्तार पश्चिम में कटरा गाँव ( सम , जैसलमेर ) से पूर्व में सिलान गाँव ( राजाखेड़ा , धौलपुर ) तक है ।
◆ आकृति :- विषमकोणीय चतुर्भुज या पतंग के समान ।
 स्थलीय सीमा:- 5920 किमी. (1070 किमी. अन्तरराष्ट्रीय + 4850 किमी. अन्तरराज्यीय)

★ राजस्थान की अन्य राज्यों के साथ स्थिति :-
उत्तर :- 
◆ पंजाब (फाजिल्का व मुक्तसर - 2 जिले) सीमा पर गंगानगर व हनुमानगढ़ - 2 जिले
उत्तर पूर्व :- 
◆ हरियाणा (मेवात, रेवाड़ी, महेन्द्रगढ़, भिवानी, हिसार, सिरसा व फतेहाबाद - 7 जिले ) सीमा पर हनुमानगढ़, चुरू, झुंझुनूं , सीकर, जयपुर, अलवर व भरतपुर - 7 जिले
पूर्व :- 
◆ उत्तर प्रदेश (आगरा व मथुरा - 2 जिले) सीमा पर भरतपुर व धौलपुर - 2 जिले
दक्षिण पूर्व :- 
◆ मध्यप्रदेश (झाबुआ, रतलाम, मंदसौर, नीमच, अगर मालवा, राजगढ़, गुना, शिवपुरी, श्योपुर व मुरैना - 10 जिले ) सीमा पर धौलपुर, करौली, सवाई माधोपुर, कोटा, बाराँ, झालावाड़, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, प्रतापगढ़ व बाँसवाड़ा - 10 जिले
पश्चिम :- 
◆ गुजरात (कच्छ, बनासकाँठा, साबरकाँठा, अरावली, महीसागर एवं दाहोद 6 जिले) सीमा पर बाँसवाड़ा,उदयपुर, डूंगरपुर, सिरोही, जालौर व बाड़मेर - 6 जिले
◆ पाकिस्तान (पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का बहावलनगर, बहावलपुर व रहीमयार खान तथा सिंध प्रांत के घोटकी, सुकुर, खैरपुर, संघर, उमरकोट व थारपारकर जिले - 9 जिले) सीमा पर बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर व गंगानगर - 4 जिले
● इस अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखा का नाम रेडक्लिफ रेखा है । यह राज्य में उत्तर में गंगानगर के हिंदुमल कोट से लेकर दक्षिण में बाड़मेर के भागल गाँव ( बाखासर ) तक विस्तृत है ।

◆ सर्वाधिक लम्बी सीमा :- अंतरराष्ट्रीय (पाकिस्तान से लगती हुई रेडक्लिफ रेखा) जैसलमेर जिले की ।

◆ सर्वाधिक लम्बी अंतरराज्यीय सीमा :- झालावाड़ जिले की सबसे लम्बी सीमा है जो मध्यप्रदेश से लगती है ।

◆ सबसे कम लम्बी सीमा :- अंतरराष्ट्रीय (पाकिस्तान से लगती हुई रेडक्लिफ रेखा) - बीकानेर जिले की ।

◆ सबसे कम लम्बी अंतरराज्यीय सीमा :- बाड़मेर जिले की , जो गुजरात से मिलती है । गुजरात की सर्वाधिक लम्बी अन्तर्राज्यीय सीमा उदयपुर जिले से लगती है ।
◆ राज्य की सबसे कम लम्बी अन्तर्राज्यीय सीमा पंजाब राज्य से लगती है एवं सर्वाधिक लम्बी अन्तरराज्यीय सीमा मध्यप्रदेश से मिलती है ।


  राजस्थान के भू-आकृतिक प्रदेश :-  

1.उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश :-

● जिले :- जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर, बीकानेर, पाली, हनुमानगढ़, गंगानगर, नागौर, जालौर, चुरू, सीकर, झुंंझुनूं
विशेषताएँ:-
● क्षेत्रफल :- राज्य के कुल क्षेत्रफल का लगभग 61 % भाग (लगभग 20,9000 वर्ग किमी क्षेत्र) । यह प्रदेश उत्तर पश्चिम से दक्षिण - पूर्व में 640 किमी . लम्बा एवं पूर्व से पश्चिम में 300 किमी . चौड़ा है ।
● जनसंख्या :- राज्य की कुल जनसंख्या का लगभग 40 %
 वर्षा :- 20 सेमी से 50 सेमी ।
● तापमान :- गर्मियों में उच्चतम 49° से.ग्रे. तक तथा सर्दियों में -3° से.ग्रे. तक ।
● जलवायु :- शुष्क व अत्यधिक विषम ।
● मिट्टी :-  रेतीली बलुई
● यह भू भाग अरावली पर्वतमाला के उत्तर - पश्चिम एवं पश्चिम में विस्तृत है । अरावली का वृष्टि छाया प्रदेश होने के कारण दक्षिणी - पश्चिमी मानसून (अरब सागर व बंगाल की खाड़ी का मानसून) सामान्यत : यहाँ वर्षा बहुत कम करता है अत : वर्षा का वार्षिक औसत 20 - 50 सेमी . रहता है ।
● इस प्रदेश का सामान्य ढाल पूर्व से पश्चिम तथा उत्तर से दक्षिण की ओर है ( या उत्तर - पूर्व से दक्षिण पश्चिम की ओर )
● इसकी समुद्र तल से सामान्य ऊँचाई 200 से 300 मीटर है
● यह भू - भाग टेथीस सागर (इयोसीन व प्लीस्टोसीन काल में विद्यमान था) का अवशेष है ।
● 25 सेमी सम वर्षा रेखा मरुस्थलीय भाग को दो भागों में बांटती है। -
( अ ) पश्चिमी विशाल मरुस्थल या रेतीला शुष्क मैदान या महान् मरुभूमि (Great Indian Desert):-
 • इसमें वर्षा का वार्षिक औसत 20 सेमी तक रहता है । (बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर, गंगानगर आदि क्षेत्र)
• वर्षा अत्यधिक कम होने के कारण इस प्रदेश को शुष्क बालका मैदान भी कहते हैं ।
• पश्चिमी रेतीले शुष्क मैदान के दो उपविभाग हैं
(1) बालुकास्तूप युक्त मरुस्थलीय प्रदेश
(2) बालकास्तुप मुक्त ( रहित ) क्षेत्र

( ब ) राजस्थान बांगर ( बांगड़ ) या अर्द्धशुष्क मैदान :- 
• अर्द्धशुष्क मैदान महान् शुष्क रेतीले प्रदेश के पूर्व में व अरावली पहाड़ियों के पश्चिम में लूनी नदी के जल प्रवाह क्षेत्र में अवस्थित है ।
• यह आन्तरिक प्रवाह क्षेत्र है । इसका उत्तरी भाग घग्घर का मैदान , उत्तरपूर्वी भाग शेखावाटी का आन्तरिक जल प्रवाह क्षेत्र , व दक्षिण - पश्चिमी भाग लूनी नदी बेसिन तथा मध्यवर्ती भाग नागौरी उच्च भूमि है ।
• इस सम्पूर्ण प्रदेश को निम्न चार भागों में विभाजित करते हैं ( 1 ) घग्घर का मैदान :-  यह मुख्यत: हनुमानगढ़ एंव गंगानगर जिलों में विस्तृत है । इस क्षेत्र में वर्तमान में घग्घर नदी प्रवाहित होती है, जो मृत नदी के नाम से भी जानी जाती है ।
( 2 ) लूनी बेसिन या गौड़वाड़ क्षेत्र :- लूनी एवं उसकी सहायक नदियों के इस अपवाह क्षेत्र को गौड़वाड़ प्रदेश कहते हैं । इस क्षेत्र में जालौर - सिवाना की ग्रेनाइट पहाड़ियाँ स्थित हैं ।
( 3 ) नागौरी उच्च भूमि प्रदेशः- राजस्थान बांगड़ प्रदेश के मध्यवर्ती भाग को नागौर उच्च भूमि कहते हैं । इस क्षेत्र में डीडवाना , कुचामन , सांभर , नावां आदि खारे पानी की झीलें हैं जहाँ नमक उत्पादित होता है ।
( 4 ) शेखावाटी आंतरिक प्रवाह क्षेत्र :- बांगड़ प्रदेश के इस भू - भाग में चुरू , सीकर , झुंझुनूं व नागौर का कुछ भाग आता है । इसके उत्तर में घग्घर का मैदान तथा पूर्व में अरावली पर्वत श्रृंखला है । इस प्रदेश में बरखान प्रकार के बालुकास्तूपों का बाहुल्य है ।

◆ मुख्य फसलें :- बाजरा, मोठ व ग्वार
◆ वनस्पति :- बबूल , फोग , खेजड़ा , कैर , बेर व सेवण घास आदि ।
◆ इंदिरा गाँधी नहर :- इस क्षेत्र की मुख्य नहर व जीवन रेखा नहर आने के बाद इस क्षेत्र में अन्य फसलें भी होने लगी हैं । ◆ इस सम्पुर्ण मरुस्थल में बालुका - स्तूपों के बीच में कहीं - कहीं निम्न भूमि मिलती है जिसमें वर्षा का जल भर जाने से अस्थायी झीलों व दलदली भूमि का निर्माण होता है जिसे ' रन ' ( Rann ) कहते हैं । कनोड़ , बरमसर , भाकरी , पोकरण (जैसलमेर ) , बाप ( जोधपुर ) तथा थोब ( बाड़मेर ) प्रमुख रन हैं ।
◆ इस प्रदेश की प्रमुख नदी लूनी है , जो नागपहाड़ (अजमेर) से निकलकर नागौर , पाली , जोधपर, बाड़मेर व जालौर में बहकर कच्छ के रन ( गुजरात ) में विलुप्त हो जाती है ।


2. अरावली पर्वतीय प्रदेश :-

● जिले :- उदयपुर, चितौड़गढ़, राजसमंद, डूँगरपुर, प्रतापगढ़, भीलवाड़ा, सीकर, झुंझुनूं, अजमेर, सिरोही, अलवर, पाली, जयपुर। 


◆ विश्व की प्राचीनतम पर्वत श्रेणियों में से एक अरावली पर्वतमाला राजस्थान के भू - भाग को दो असमान भागों में विभक्त करती है । इन पर्वतों में ग्रेनाइट चट्टानें भी मिलती है जो सेंदड़ा ( ब्यावर ) के पास अधिक फैली हुई है । 
◆ क्षेत्रफल :-  राज्य के सम्पूर्ण भू - भाग का 9% 
◆ जनसंख्या :-  राज्य की कुल जनसंख्या का लगभग 10%
◆ वर्षा :- 50 सेमी से 90 सेमी । अरावली पर्वत राज्य में एक वर्षा ( जल ) विभाजक रेखा का कार्य करते हैं 
◆ राज्य का सर्वाधिक वर्षा वाला स्थान माउन्ट आबू ( लगभग 150 सेमी ) इसी में स्थित है ।
◆ जलवायु :- उपआर्द्र जलवायु 
◆ मिट्टी :- काली , भूरी लाल व कंकरीली मिट्टी 
●  अरावली पर्वतमाला का विस्तार कर्णवत रूप में दक्षिण - पश्चिम में गुजरात में खेड़ ब्रह्म , पालनपुर लेकर उत्तर - पूर्व में खेतडी सिंघाना (झंझुनूं ) तक शृंखलाबद्ध रूप में है , उसके बाद छोटे-छोटे हिस्सों में दिल्ली तक ( रायसीना पहाड़ी तक ) फैली हुई हैं । इन शृंखलाओं की चौड़ाई व ऊँचाई दक्षिण पश्चिम में अधिक है जो धीरे धीरे उत्तर - पूर्व में कम होती चली जाती है । अरावली पर्वत श्रृंखला गोंडवाना लैंड का अवशेष है। इनकी उत्पत्ति भूगर्भिक इतिहास के प्री , केम्ब्रियन कल्प ( प्राचीन काल ) में हुई थी । इसके दक्षिणी भाग में पठार , उत्तरों एवं पूर्वी भाग में मैदान एवं पश्चिमी भाग में मरुस्थल है । अरावली पर्वत प्रारंभ में बहुत ऊँचे थे परंतु अनाच्छादन के कारण ये आज अवशिष्ट पर्वतों के रूप हैं ।
●  इस क्षेत्र में कई महत्त्वपूर्ण खनिज बहुतायत से मिलते हैं , जैसे , ताँबा , सोसा , जस्ता , अभ्रक , चाँदी , लोहा मैंगनीज , फेल्सपार , ग्रेनाइट , मार्बल , चूना पत्थर , पन्ना आदि ।
● मुख्य दर्रे :-  देसूरी नाल व हाथी दर्रा, केवड़ा की नाल (उदयपुर) , जीलवाड़ा नाल , सोमेश्वर नाल आदि । 
● अरावली श्रृंखला की कुल लम्बाई 692 किमी में से 550 किमी ( 80% ) राजस्थान में हैं । 
● अरावली पर्वत विश्व के प्राचीनतम वलित पर्वत हैं । 
● अरावली पर्वतीय प्रदेश की समुद्र तल से औसत ऊँचाई 930 मीटर है । 
★ अरावली पर्वतीय प्रदेश को निम्न चार भागों में विभाजित किया जाता है । 
1. उत्तर पूर्वी पहाड़ी प्रदेश :- अरावली पर्वतीय क्षेत्र का यह भाग जयपुर की सांभर झील के उत्तर - पूर्व में राजस्थान - हरियाणा सीमा तक फैला हुआ है । इसमें जयपुर जिले के उत्तर - पूर्व में स्थित शेखावाटी एवं तोरावाटी क्षेत्र की पहाड़ियाँ , जयपुर एवं अलवर की पहाड़ियाँ शामिल की जाती हैं । रघुनाथगढ़,सीकर (1055 मी.) , खो,जयपुर (920मी.) एवं बाबाई, झुंझुनूं (780मी.) , भैराच (अलवर ,792मी.) एवं बैराठ, जयपुर (704 मी.) इस भाग की प्रमुख पर्वत चोटियाँ हैं 
2 मध्यवर्ती अरावली श्रेणी : अरावली पर्वतीय प्रदेश के इस भाग में अजमेर , जयपुर एवं पश्चिमी टोंक जिले की पहाड़ियाँ तथा शेखावाटी क्षेत्र ( सीकर - झुंझुनूं ) की निम्न पहाड़ियाँ आती हैं । इस क्षेत्र में मेरवाड़ा की पहाड़ियों में अजमेर स्थित तारागढ़ (872 मी.) एवं नाग पहाड़ (795 मी.) आदि प्रमुख चोटियाँ है । 
3. भोरठ का पठारी क्षेत्र :- अरावली श्रेणी के इस भू - भाग में उदयपुर डूंगरपुर , राजसमंद , चित्तौड़गढ़ एवं प्रतापगढ़ तथा सिरोही के पूर्वी भाग की पहाड़ियाँ सम्मिलित की जाती हैं । आबू पर्वत खण्ड के अलावा अरावली पर्वत श्रेणी का उच्चतम भाग कुम्भलगढ़ व गौगन्दा के बीच (उदयपुर के उत्तर पश्चिम में) स्थित भोरठ का पठार है जिसकी औसत ऊँचाई 1225 मीटर है । राज्य की चौथी सर्वोच्च चोटी जरगा (1431 मी.) भी इसी क्षेत्र में स्थित है । इस क्षेत्र की अन्य चोटियाँ गोगुन्दा (840 मी.) , सायरा (900 मी) , कोटड़ा (450 मी.) आदि हैं
4.  आबू पर्वत खण्ड़ :- अरावली पर्वतीय क्षेत्र का उच्चतम भाग आबू पर्वत है जो सिरोही जिले में अवस्थित है । इसकी समुद्रतल से औसत ऊँचाई 1200 मी. से भी अधिक हैं । इसमें ग्रेनाइट चट्टानों की बहुलता हैं । आबू पर्वत से सटा हुआ उड़िया पठार ( ऊँचाई 1360 मीटर ) राज्य का सर्वोच्च पठार हैं । जो सबसे ऊँची चोटी गरुशिखर के नीचे है । इसी क्षेत्र में राज्य की दूसरी सर्वोच्च चोटी सेर (1597मी.) दिलवाड़ा (1442 मी ) एवं अचलगढ़ (1380 मी) स्थित है । 


3. पूर्वी मैदानी भाग :-

जिले :- जयपुर, भरतपुर, दौसा, सवाईमाधोपुर, करौली, टोंक, अलवर, धौलपुर, अजमेर, प्रतापगढ़, ढूंगरपुर
● यह मैदानी भाग अरावली पर्वतमाला के पूर्व में स्थित है । इस मैदान का उत्तरी पूर्वी भाग गंगा - यमुना के मैदानी भाग से मिला हुआ है । इसका ढाल पूर्व की ओर है ।
● इसका क्षेत्रफल राज्य के कुल क्षेत्रफल का लगभग 23% है 
● यह मैदानी भाग 50 सेमी. सम वर्षा रेखा द्वारा पश्चिमी मरुस्थलीय भाग से विभाजित है । 
● जनसंख्या :- राज्य की लगभग 39 % जनसंख्या यहाँ निवास करती है । इस क्षेत्र का जनसंख्या घनत्व सर्वाधिक है।
● वर्षा :- 50 सेमी से 80 सेमी वार्षिक के मध्य
● जलवायु :- आर्द्र जलवायु 
● मिट्टी :- जलोढ व दोमट मिट्टी 
● छप्पन का मैदान बाँसवाड़ा - प्रतापगढ - ढूंगरपुर के मध्यवर्ती मैदानी भाग को में विस्तत है । 
● कृषि मुख्य व्यवसाय है गेहूँ , जौ , चना , ज्वार , मक्का , बाजरा , तिलहन , सरसों , दालें ( मूंग , उड़द , अरहर ) , गन्ना आदि का बहुत उत्पादन होता है । इस क्षेत्र में कुओं द्वारा सिंचाई अधिक होती है । 
● नहरें :- भरतपुर नहर व गुड़गाँव नहर । 
● इस प्रदेश का ढाल पूर्व दिशा में है , अत: सभी नदियाँ पश्चिम से पूर्व की ओर बहकर बंगाल की खाड़ी में अपना जल ले जाती हैं । दक्षिणी मैदानी क्षेत्र का ढाल पश्चिम में होने के कारण माही नदी खम्भात की खाड़ी में गिरती है । चंबल बेसिन का ढाल दक्षिण से उत्तर की ओर एवं बनास बेसिन का ढाल उत्तर पूर्व व पूर्व की ओर तथा माहीं बेसिन का ढाल पश्चिम में गुजरात राज्य की तरफ है। 
● इस मैदानी भाग की दक्षिणी - पूर्वी सीमा पर विन्ध्यन पठार व हाड़ौती का पठार स्थित है । 
● इस बेसिन के पश्चिमी भाग देवगढ़ के आसपास को पीडमांट का मैदान कहते हैं । 
● पूर्वी मैदानी भाग को निम्न तीन उप - विभागों में विभाजित किया गया है -
1. बनास बेसिन : बनास व उसकी सहायक नदियों खारी, मोरेल, बेडच, मेनाल, कोठारी, कालीसिल, माशी आदि द्वारा सिंचित मैदानी भाग। 
2 . चम्बल बेसिन : इस बेसिन में विशाल बीहड़ हैं जिनमें चोर - डाकुओं का आतंक रहता है । इस मैदानी क्षेत्र में कोटा, बूंदी, टोंक, सवाई माधोपुर एवं धौलपुर के क्षेत्र शामिल हैं । 
3 . छप्पन बेसिन : माही एवं उसकी सहायक नदियों द्वारा सिंचित राजस्थान का यह दक्षिणी भाग ‘वागड' नाम से प्रसिद्ध है । बाँसवाड़ा व प्रतापगढ़ के बीच का क्षेत्र 'छप्पन का मैदान' है ।


4. दक्षिण-पूर्वी पठारी भाग :-

जिले:- कोटा, बूँदी, झालावाड़, बांरा, बाँसवाड़ा, चितौरगढ़, भीलवाड़ा। 
● यह मालवा के पठार का ही एक भाग है तथा चम्बल नदी के सहारे पूर्वी भाग में विस्तृत है । इस क्षेत्र में राज्य का लगभग 7 % भाग आता है तथा 11 % जनसंख्या निवास करती है । इसे हाड़ौती का पठार/ लावा का पठार भी कहते हैं । यह आगे जाकर मालवा के पठार में मिल जाता है । 
● वर्षा : 80 सेमी से 120 सेमी । राज्य का सर्वाधिक वार्षिक वर्षा वाला क्षेत्र
● मिट्टी : काली उपजाऊ मिट्टी , जिसका निर्माण प्रारम्भिक ज्वालामुखी चट्टानों से हुआ है । इसके अलावा लाल और कछारी मिट्टी भी पाई जाती है। धरातल पथरीला व चट्टानी है। 
● जलवायु : अति आर्द्र जलवायु प्रदेश 
● फसलें : कपास , गन्ना , अफीम , तम्बाकू , चावल धनिया , मेथी , संतरा
● वनस्पति : लम्बी घास , झाड़ियाँ , बाँस , खेर , गूलर , सालर , धोंक , ढाक , सागवान आदि । यह संपूर्ण प्रदेश चम्बल और उसकी सहायक काली सिंध , परवन और पार्वती नदियों द्वारा प्रवाहित है ।
● इस प्रदेश का ढाल दक्षिण से उत्तर की ओर है । इसी कारण चम्बल व इसकी कई सहायक नदियाँ दक्षिण से उत्तर की ओर बहती हैं । यह पठारी भाग अरावली और विंध्याचल पर्वत के बीच संक्रान्ति प्रदेश है । इस भू - भाग के दो भाग हैं -
 ( i ) विन्ध्यन कागार भूमि - यह क्षेत्र विशाल बलुआ पत्थरों से निर्मित्त है । 
( ii ) दक्कन का लावा पठार - इस क्षेत्र में बलुआ पत्थरों के साथ - साथ बीच - बीच में स्लेटी पत्थर भी मिलता है । बूंदी व मुकुन्दवाड़ा की पहाड़ियाँ इसी पठारी भाग में हैं । 
● ऊपरमाल का पठार एवं मेवाड़ का पठार इसी के भाग हैं ।


  राजस्थान के प्रमुख पर्वत, पहाड़ियाँ व पठार :-  

◆ गुरु शिखर :-
● अरावली की पहाड़ियों में माउण्ट आबू (सिरोही) में स्थित राजस्थान की सबसे ऊँची पर्वत चोटी।
● इसकी ऊँचाई 1722 मीटर है । यह हिमालय व पश्चिमी घाट की नीलगिरी के मध्य स्थित सर्वाधिक ऊँची चोटी है ।
● कर्नल टॉड ने इसे संतों का शिखर कहा है ।
◆ सेर ( सिरोही ) :- 1597 मीटर ऊँची राज्य की दूसरी सबसे ऊँची चोटी एवं दिलवाड़ा (1442 मी) : राज्य की तीसरी सबसे ऊँची पर्वत चोटी
◆ जरगा ( उदयपुर ) :- 1431 मीटर ऊँची राज्य की चौथी सबसे ऊँची चोटी , जो भोरट के पठार में स्थित है । मेसा पठार ( 620 मीटर ऊँचा ) पर चित्तौड़गढ़ का किला स्थित है
◆ अचलगढ़ ( सिरोही ) :- 1380 मीटर ऊँची पर्वत श्रेणी ।
◆ रघुनाथगढ़ ( सीकर ) :- 1055 मी .
◆ खौ - 920 मी. , तारागढ़ 873 मी .
◆ मुकुन्दवाड़ा की पहाड़ियाँ : कोटा व झालरापाटन (झालावाड़) के बीच स्थित इस भू - भाग का ढाल दक्षिण से उत्तर की ओर है , अत: चम्बल नदी दक्षिण से उत्तर की ओर बहती है ।
◆ मालखेत की पहाड़ियाँ : सीकर जिले की पहाड़ियों का स्थानीय नाम । हर्ष की पहाड़ियाँ सीकर जिले में स्थित हैं  जिस पर जीणमाता का प्रसिद्ध मंदिर स्थित है ।
◆ सुण्डा पर्वत : भीनमाल ( जालौर ) के निकट स्थित पहाड़ियाँ , जिनमें सुण्डा माता का मंदिर स्थित है । इस पर्वत पर 2008 में राज्य का पहला रोप वे प्रारंभ किया गया है ।
◆ मालाणी पर्वत श्रृंखला : लूनी बेसिन का मध्यवर्ती घाटी के भाग जो मुख्यत : जालौर एवं बालोतरा के मध्य स्थित है ।
◆ उड़िया पठार : राज्य का सबसे ऊँचा पठार , जो गुरू शिखर से नीचे स्थित है । यह आबू पर्वत से 160 मीटर ऊँचा है ।
◆ आबू पर्वत : आबू पर्वत खंड का दूसरा सबसे ऊँचा पठार (उड़िया पठार के बाद) , जिसकी औसत ऊँचाई 1200 मी. से अधिक है । यहीं पर टॉड रॉक एवं हार्न रॉक स्थित है ।
◆ भोरठ का पठार : आबू पर्वत खंड के बाद राज्य का उच्चतम पठार , जो उदयपुर के उत्तर पश्चिम में गोगुन्दा व कुम्भलगढ़ के बीच स्थित है । इसकी औसत ऊँचाई 1225 मी. है ।
◆ भाकर : पूर्वी सिरोही क्षेत्र में अरावली की तीव्र ढाल वाली व ऊबड़ - खाबड़ कटक ( पहाड़ियां ) स्थानीय भाषा में 'भाकर' नाम से जानी जाती है ।

★ अन्य चोटियाँ :- कुम्भलगढ़ (1224 मीटर), कमलनाथ की पहाड़ी (1001 मीटर), ऋषीकेश (1017 मीटर), सज्जनगढ़ (938 मीटर) एवं लालगढ़ (874 मीटर)


◆ गिरवा :- उदयपुर क्षेत्र में तस्तरीनुमा आकृति वाले पहाडों की मेखला ( श्रखला ) को स्थानीय भाषा में गिरवा कहते है ।
◆ मेरवाड़ा की पहाड़ियाँ :- अरावली पर्वत श्रेणियों का टाडगढ़ के समीप का भाग जो मारवाड़ के मैदान को मेवाड़ के उच्च पठार से अलग करता है ।
◆ छप्पन की पहाड़ियाँ व नाकोड़ा पर्वत :- बाड़मेर में सिवाणा पर्वत क्षेत्र में स्थित मुख्यतः गोलाकार पहाडियाँ इन्हें 'नाकोड़ा पर्वत' के नाम से भी जाना जाता है ।
◆ लासड़िया का पठार :- उदयपुर में जयसमंद से आगे पूर्व की और विच्छेदित व कटाफटा पठार ।
◆ त्रिकूट पहाड़ी :- जैसलमेर किला इसी पर स्थित है ।
◆ उपरमाल : चित्तौड़गढ़ के भैंसरोडगढ़ से भीलवाड़ा के बिजोलिया तक का पठारी भाग रियासत काल में ' उपरमाल ' के नाम से जाना जाता था ।
◆ भैराच एवं उदयनाथ : अलवर में स्थित पहाड़ियाँ ।
◆ मगरा : उदयपुर का उत्तर पश्चिमी पर्वतीय भाग, यहीं जरगा पर्वत चोटी स्थित है ।
◆ खो जयपुर जिले में व बाबाई ( झुंझुनू ) में स्थित पहाड़ियाँ
◆ डोरा पर्वत ( 869 मी . ) : जसवंतपुरा पर्वतीय क्षेत्र जालौर में स्थित ।
◆ रोजाभाखर ( 730 मी . ) , इसराना भाखर ( 839 मी . ) एवं झारोला पहाड़ :- ये सभी जालौर पर्वतीय क्षेत्र (जसवंतपुरा को पहाडियाँ) में स्थित हैं ।
★ नालः- अरावली श्रेणियों के मध्य मेवाड़ क्षेत्र में स्थित तंगरास्तों ( दर्रों ) को स्थानीय भाषा में नाल कहते हैं ।
◆ मेवाड़ में प्रमुख नालें - 
( 1 ) जीलवा की नाल ( पगल्या नाल ) :- यह मारवाड़ से मेवाड़ में आने का रास्ता प्रदान करती है ।
( 2 ) सोमेश्वर की नाल :- देसूरी से कुछ मील उत्तर में स्थित विकट तंग दर्रा ।
( 3 ) हाथी गुड़ा की नाल :- देसूरी से दक्षिण में 5 मील दूरी पर स्थित नाल । कुंभलगढ़ का किला इसी नाल के नजदीक है।


महत्वपूर्ण तथ्य :-

◆ खादर : चंबल बेसिन में 5 से 30 मीटर गहरी खड्डू युक्त बीहड़ भूमि को स्थानीय भाषा में खादर कहते हैं ।
◆ धोरे : रेगिस्तान में रेत के बड़े - बड़े टीले , जिनकी आकृति लहरदार होती हैं ।
◆ बरखान : रेगिस्तान में रेत के अर्द्धचन्द्राकार बड़े - बड़े टीले ये एक स्थान से दूसरे स्थान पर गतिशील रहते हैं ।
◆ लघु मरुस्थल : महान थार मरुस्थल का पूर्वी भाग जो कच्छ से बीकानेर तक फैला हैं ।
◆ बीहड़ भूमि या कंदराएँ : चम्बल नदी के द्वारा मिट्टी के भारी कटाव के कारण प्रवाह क्षेत्र में बन गई गहरी घाटियाँ व टीले । राजस्थान में सर्वाधिक बीहड़ भूमि धौलपुर जिले में हैं । राजस्थान व मध्यप्रदेश के सीमावर्ती जिले भिण्ड , मुरैना , धौलपुर आदि में ये कंदराएँ बहुत हैं ।
◆ खड़ीन : जैसलमेर के उत्तर दिशा में बड़ी संख्या में स्थित प्लाया झीलें जो प्राय : निम्न कागारों से घिरी रहती हैं ।
◆ धरियन : जैसलमेर जिले के ऐसे भू - भाग में , जहाँ आबादी लगभग नगण्य है , स्थानान्तरित बालुका स्तुपों को स्थानीय भाषा में धरियन नाम से पुकारते हैं ।
◆ वागड़ ( वाग्वर ) : बाँसवाड़ा , प्रतापगढ़ व डूंगरपुर के क्षेत्र को स्थानीय भाषा में वागड़ ( वाग्वर ) कहते हैं ।
◆ बांगड़ ( बांगर ) : यह अरावली पर्वत एवं पश्चिम मरुस्थल के मध्य का भाग है जो मुख्यत : झुंझुनूं , सीकर व नागौर जिले में विस्तृत है ।
◆ छप्पन के मैदान : बाँसवाड़ , डूंगरपुर व प्रतापगढ़ के बीच माही बेसिन में 56 ग्राम समूहों (56 नदी नालों का प्रवाह क्षेत्र) का क्षेत्र
◆ पीडमान्ट मैदान : अरावली श्रेणी में देवगढ़ के समीप स्थित पृथक निर्जन पहाड़ियाँ जिनके उच्च भू - भाग टीलेनुमा है
◆ बीजासण का पहाड़ : मांडलगढ़ कस्बे के पास स्थित है ।
◆ विन्ध्याचल पर्वत : राजस्थान के दक्षिण - पूर्व में मध्यप्रदेश में स्थित है ।

◆ लाठी सीरीज क्षेत्र : जैसलमेर में पोकरण से मोहनगढ़ तक पाकिस्तानी सीमा के सहारे विस्तृत एक भूगर्भीय जल की चौड़ी पट्टी जहाँ उपयोगी सेवण घास अत्यधिक मात्रा में पाई जाती है ।

◆ कूबड़ पट्टी : राजस्थान के नागौर जिले एवं अजमेर जिले के कुछ क्षेत्रों में भूगर्भीय पानी में फ्लोराइड की मात्रा अत्यधिक होने के कारण वहाँ के निवासियों की हड्डियों में टेड़ापन आ जाता है एवं पीठ झुक जाती है इसलिए इसे कूबड़ पट्टी कहते है।