🏆 राजस्थान का भूगोल 🏆

🎗टॉपिक - राजस्थान के उद्योग🎗


Rajasthan ke udhyog in hindi, rajasthan ke udhyog notes in hindi
राजस्थान के उद्योग




प्रश्न 1. सार्वजनिक क्षेत्र के विभिन्न संगठनों (रीको, आरएफसी, राजसीको आदि) द्वारा आकलित औद्योगिक संभावनाओं के आधार पर 'A' श्रेणी में राजस्थान के कौनसे जिले सम्मिलित किए गए हैं?*
(1) जोधपुर, पाली, अजमेर, अलवर 
(2) बीकानेर, जोधपुर, भीलवाड़ा, जयपुर 
(3) अलवर, टोंक, चित्तौड़गढ़, अजमेर 
(4) कोटा, अजमेर, उदयपुर, भरतपुर
उत्तर - ( 1 )

*प्रश्न 2. राजस्थान की प्रथम औद्योगिक नीति की घोषणा की गई थी ?*
(1) वर्ष 1948 में 
(2) वर्ष 1956 में 
(3) वर्ष 1978 में 
(4) वर्ष 1991 में
उत्तर - ( 3 )

*प्रश्न 3. राजस्थान में सीमेंट उत्पादन में प्रमुख जिले हैं -*
(1) बूंदी, चित्तौड़गढ़, कोटा, सिरोही एवं उदयपुर 
(2) चित्तौड़गढ़, उदयपुर, प्रतापगढ़ एवं बांसवाड़ा 
(3) सिरोही, कोटा, डूंगरपुर एवं बांसवाड़ा 
(4) कोटा, बूंदी, टोंक एवं भीलवाड़ा
उत्तर - ( 1 )

*प्रश्न 4. राजस्थान में सर्वप्रथम सीमेंट फैक्ट्री की स्थापना हुई -* 
(1) चित्तौड़गढ़ में 
(2) लाखेरी में 
(3) मोडक में 
(4) निंबाहेड़ा में
सही उत्तर - ( 2 )

*प्रश्न 5. निम्नलिखित में से कौन-सा सम्मिलित नहीं है?*
(1) इंस्ट्रूमेंटेशन लिमिटेड - कोटा
(2) राजस्थान स्टेट केमिकल वर्क्स - सांभर 
(3) चंबल फ़र्टिलाइज़र - गड़ेपान
(4) हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड - देबारी
उत्तर - (2)

*प्रश्न 6. राजस्थान के सभी जिलों में जिला उद्योग केंद्रों की स्थापना किस पंचवर्षीय योजना में की गई?*
(1) पहली           (2) पांचवी
(3) चौथी            (3) तीसरी
उत्तर - ( 2 )

*प्रश्न 7. राज्य में हैंडीक्राफ्ट के लिए टाउन ऑफ एक्सपोर्ट एक्सीलेंस का दर्जा किसे मिला हुआ है ?*
(1) उदयपुर        (2) बीकानेर
(3) जयपुर          (4) जोधपुर
उत्तर - (4)

*प्रश्न 8. राज्य में कृषिगत औजारों को बनाने के लघु कारखाने कहां स्थित है?*
(1) गेगल (अजमेर)
(2) गजसिंहपुर (गंगानगर)
(3) कैथून (कोटा)
(4) हिंडोली (बूंदी)
उत्तर - (2)

*प्रश्न 9. बकरी के बालों से जट पट्टियों की बुनाई का मुख्य केंद्र कहां स्थित है ?*
(1) दूदू (जयपुर)
(2) गंगापुर (भीलवाड़ा)
(3) जसोल (बाड़मेर)
(4) खेतड़ी (झुंझुनू)
उत्तर - (3)

*प्रश्न 10. राज्य का कौनसा जिला खस व इत्र उद्योग के लिए प्रसिद्ध है ?*
(1) कोटा - झालावाड़ 
(2) बांरा - कोटा 
(3) बांसवाड़ा - डूंगरपुर
(4) सवाई माधोपुर - भरतपुर
उत्तर - (4)

*प्रश्न 11. सफेद सीमेंट बनाने वाली राज्य की पहली फैक्ट्री सन 1984 में कहां पर स्थापित की गई ?*
(1) रींगस (जयपुर)
(2) ब्यावर (अजमेर)
(3) गोटन (नागौर)
 (4) केकड़ी (अजमेर)
उत्तर - (3)

*प्रश्न 12. राजस्थान वित्त निगम (आरएफसी) की स्थापना किस वर्ष में की गई थी ?*
(1) 1952      (2) 1955 
(3) 1965      (4) 1971
उत्तर - (2)

*प्रश्न 13. राज्य में लोहे के औजारों को बनाने के लिए कौनसा जिला प्रसिद्ध है ?*
(1) नागौर        (2) जयपुर
(3) झुंझुनू        (4) राजसमंद
उत्तर - (1)

*प्रश्न 14. जयपुर जिले में मानपुरा - माचेड़ी किस रूप में विकसित किया गया है ?*
(1) सॉफ्टवेयर कांपलेक्स के रूप में 
(2) हार्डवेयर कांपलेक्स के रूप में 
(3) लेदर कोंप्लेक्स के रूप में
(4) हैंडीक्राफ्ट कांपलेक्स के रूप में
उत्तर - (3)

*प्रश्न 15. RIICO एवं KOTRA राजस्थान में साउथ कोरियन इंडस्ट्रियल जोन की स्थापना घिलोट में करेगी उस जिले का नाम क्या है ?*
(1) जयपुर       (2) उदयपुर
(3) अलवर       (4) जोधपुर
उत्तर - (3)


  राजस्थान के उद्योग :-   

★ राज्य में सर्वाधिक वृहद औद्योगिक ईकाइयाँ अलवर जिले में हैं । 
★ राज्य में न्यूनतम वृहद औद्योगिक इकाइयाँ प्रतापगढ़ जिले में हैं । 
★ राज्य में सर्वाधिक पंजीकृत कारखाने जयपुर में हैं । 
★ राज्य में न्यूनतम पंजीकृत कारखाने बारां में हैं । 

◆ सुती वस्त्र उद्योग :- 
●  यह राजस्थान का सबसे प्राचीन एवं सुसंगठित उद्योग है जो वर्तमान में भी राज्य का प्रमुख उद्योग हैं ।
● राजस्थान में सर्वप्रथम 1889 में दी कृष्णा मिल्स लिमिटेड की स्थापना देशभक्त सेठ दामोदर दास ने ब्यावर ( अजमेर ) नगर में की । यह राजस्थान की प्रथम सूती वस्त्र मिल है । यह राज्य का पहला आधुनिक उद्योग हैं । 
● राज्य में इस समय सूती मिलें निजी , सार्वजनिक एवं सहकारी तीनों क्षेत्रों में कार्यरत हैं । 
● सार्वजनिक क्षेत्र की सूती मिलें - ये निजी क्षेत्र में स्थापित मिलें थीं , जिन्हें रूग्णता के कारण 1974 से राष्ट्रीय वस्त्र निगम द्वारा द्वारा अधिग्रहीत कर लिया गया ।
● ये निम्न है - एडवर्ड मिल्स ( ब्यावर ) , महालक्ष्मी मिल्स ( ब्यावर ) , श्री विजय कॉटन मिल्स ( विजयनगर ) 
◆ सहकारी क्षेत्र की कताई मिलें :-
● राजस्थान सहकारी कताई मिल लि , गुलाबपुरा ( भीलवाड़ा ) - 1965 
● श्रीगंगानगर सहकारी कताई मिल लि . , हनुमानगढ़ - 1978 । 
● गंगापुर सहकारी कताई मिल लि . , गंगापुर ( भीलवाड़ा ) - 1981 
1 अप्रैल 1993 को इन तीनों मिलों एवं गुलाबपुरा की सहकारी जिनिंग मिल को मिलाकर राजस्थान राज्य सहकारी स्पिनिंग मिल्स संघ लिमिटेड की स्थापना की गई । 

★ राज्य में सर्वाधिक कपड़ा उत्पादन भीलवाड़ा से होता हैं । जिसे राजस्थान की वस्त्र नगरी या मैनचेस्टर भी कहा जाता हैं । सर्वाधिक मीले भी इसी जिले में स्थित हैं । 
★ राजस्थान का नवीनतम मेनचेस्टर भिवाडी ( अलवर ) कहा जाता हैं ।
★  राजस्थान में कोटा की साड़ीयाँ प्रसिद्ध हैं । 
★ राजस्थान में सबसे बड़ी सूती वस्त्र मिल महाराजा उम्मेद मिल्स , पाली में है ।

● अन्य सूती वस्त्र मिलें :-
1. बांसवाड़ा फेब्रिक्स बांसवाड़ा आधुनिक पॉलिटेटेक्स - आबूरोड ( सिरोही ) 
2. विजय कॉटन मिल्स - विजयनगर 
3.माडर्न / शेड्स - रायला ( भीलवाड़ा ) बांसवाड़ा 
4. सिन्थेटिक्स बांसवाड़ा सुदर्शन टैक्सटाइल्स कोटा 
5. श्री गोयल इंडस्ट्रीज कोटा गंगापुर को - ऑपरेटिव स्पिनिंग मिल - गंगापुर 

◆ चीनी उद्योग :- 
● इस उद्योग का मुख्य कच्चा माल गन्ना हैं । जिसमें 9 % से 12 % चीनी होती हैं ।
● राजस्थान में सर्वप्रथम चित्तौड़गढ़ जिले में भोपालसागर नगर में एक चीनी मिल दी मेवाड़ शुगर मिल्स के नाम से सन् 1932 में प्रारंभ की गई । वर्तमान में बन्द हैं । 
● दूसरा कारखाना सन् 1937 में श्रीगंगानगर में दी गंगानगर शुगर मिल्स नाम में स्थापित हुआ । 1956 में इस चीनी मिल को राज्य सरकार ने अधिगृहीत कर लिया तथा यह सार्वजनिक क्षेत्र में आ गई । 
● 1965 में बूंदी जिले के केशोरायपाटन में चीनी मिल सहकारी क्षेत्र में स्थापित की गई । संक्षिप्त में श्रीगंगानगर , भोपालसागर , उदयपुर व केशोरायपाटन में चीनी मिलें हैं । चुकन्दर से चीनी बनाने के लिए श्रीगंगानगर शुगर मिल्स लिमिटेड में एक योजना 1968 में आरंभ की गई थी ।

◆ सीमेन्ट उद्योग :-
● सीमेन्ट उद्योग की दृष्टि से राजस्थान का देश में अग्रणी स्थान है । 
● सर्वप्रथम ( 1904 में ) चैन्नई में समुद्री सीपियों से सीमेन्ट बनाने का प्रयास किया गया था ।
● 1915 ई . में राजस्थान में लाखेरी , बंदी में क्लीक निकसन कम्पनी द्वारा सर्वप्रथम एक सीमेंट संयंत्र स्थापित किया गया । 
● 1917 से इस कारखाने में सीमेन्ट का उत्पादन प्रारंभ हुआ । वर्तमान इसे ACC सीमेण्ट ( एसोसियेट सीमेण्ट कम्पनी ) कहते हैं । 
● मोड़क - मंगलम् सीमेन्ट ( 1982 )
● ब्यावर - श्री सीमेन्ट ( 1985 ) भारत का सबसे बड़ा ( ड्राइप्रोसेस ) बागड़ प्रतिष्ठान । 
● सर्वाधिक क्षमता की दृष्टि से जे . के . सीमेन्ट , निम्बाहेड़ा कारखाना एक टन सीमेन्ट बनाने में लगभग 1 . 6 टन चूना पत्थर , 0 . 38 टन जिप्सम , 3 . 8 टन कोयले का उपयोग होता है । 
● चित्तौड़गढ़ के राजपुरा में लाफर्ज नामक फ्रांससी कम्पनी एक प्लाण्ट स्थापित कर रही हैं । 
● चित्तौड़गढ़ जिला सीमेन्ट उद्योग के लिए अनुकूल है । इसे सीमेण्ट नगरी भी कहते हैं । 
● राज्य में सर्वाधिक सीमेण्ट कारखाने चित्तौड़गढ़ में हैं । यहाँ राज्य का सर्वाधिक सीमेण्ट उत्पादन किया जाता हैं । 
● जोधपुर - सिराही क्षेत्र में चूनापत्थर की सबसे अच्छी किस्म है । 
● राजस्थान में सफेद सीमेन्ट का उत्पादन गोटन ( नागौर ) में होता है ।
● वर्तमान में मांगरोल , चित्तौड़गढ़ में भी नवीन सफेद सीमेंट का कारखाना स्थापित हुआ है । 
● जोधपुर के खारिया खंगार में भी सफेद सीमेंट का कारखाना स्थापित किया गया है । 

◆ काँच उद्योग :-
धौलपुर , जयपुर मुख्य जिले हैं । 1600° सें . ग्रे . से 1650° सें . ग्रे . ताप पर पिघलना , बालू मिट्टी , | सिलिका , सोडियम सल्फेट व शीशा की पर्याप्त उपलब्धता के कारण |
 कांच उद्योग के विकास की अच्छी संभावना है । 
● धौलपुर ग्लास वर्ल्स - निजी क्षेत्र में 1 , 000 टन प्रति वर्ष । 
● दी हाई टेक्नीकल प्रीसीजन ग्लास वर्ल्स - सार्वजनिक क्षेत्र में | 
● धौलपुर में राजस्थान सरकार का उपक्रम है जो श्रीगंगानगर शुगर मिल्स के अधीन है । 
● कोटा में टीवी पिक़र ट्यूब का निर्माण करने के लिए सेमकोर ग्लास इण्डस्ट्रीज भी जनवरी , 2013 में बन्द हो गयी हैं । 
● राजस्थान सिलिका उत्पादन की दृष्टि से उत्तर प्रदेश के बाद देश में दूसरे स्थान पर है । 

◆ ऊन उद्योग :- 
● राज्य में ऊन का उत्पादन देश के कुल ऊन उत्पादन का लगभग 42 प्रतिशत है । 
● ग्रामीण उद्योग परियोजना के अंतर्गत दो मिलें क्रमश : लाडनू व चूरू में स्थापित की गई है । 
● स्टेट वूलन मिल्स , बीकानेर - सरकारी क्षेत्र में । 
● वर्टेड स्पिनिंग मिल्स , चूरू - राजस्थान लघु उद्योग निगम का उपक्रम है । 
● वर्टेड स्पिनिंग मिल्स , लाडनूं में राजस्थान लघु उद्योग निगम द्वारा - थापित है । 
● राज्य सरकार ने 1963 में पृथक् रूप से भेड़ व ऊन विभाग की स्थापना की 
● ऊनी कपड़ के धागे के 6 कारखाने हैं जिनमें से 3 भीलवाड़ा में हैं । 
● अखिल भारतीय ऊन विकास बोर्ड ने अक्टूबर , 1992 में बीकानेर में गलीचा प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित करने का निर्णय लिया । 
● जोधपुर में केन्द्रीय ऊन बोर्ड स्थापित किया गया है । 

◆ नमक उद्योग :- 
● राजस्थान देश का लगभग 8 . 5 प्रतिशत नमक तैयार कर उत्पादन की दृष्टि से भारत में चतुर्थ स्थान रखता है । 
● झीलों में नमक उत्पादन में राजस्थान का भारत में प्रथम स्थान है । 
● साँभर देश का सबसे बड़ा आंतरिक नमक स्त्रोत है । ( 8 प्रतिशत नमक उत्पादित होता है ) स्यारों से ( 25° से 26° से . ) जो नमक बनाया जाता है , उसे क्यार कहते है । 
● वायु प्रवाह द्वारा जो नमक बनाया जाता है , उसे रेशता नमक कहते हैं । 
● जांभर झील से नमक उत्पादन का काम सरकारी प्रतिष्ठान सांभर पाल्ट्स लिमिटेड द्वारा किया जाता है ।
● थापना - 25 जनवरी , 1960 ( केन्द्र सरकार का उपक्रम है । ) पचपदरा - बाड़मेर में उत्पादन । हीरागढ़ और साम्बरा में नमक के कारखाने स्थित है । 
● गरपदरा व डीडवाना में आयोडाइज्ड नमक के कारखाने लगाए गए है । 
● डीडवाना - नागौर देवल संस्थाओं द्वारा नमक उत्पादन । 
● डीडवाना ( नागौर ) में राजस्थान स्टेट केमिकल वर्क्स द्वारा दो फैक्ट्रियाँ स्थापित की गई है जो क्रमशः सोडियम सल्फाइड एवं जोडियम सल्फेड का निर्माण करती है ।