सल्तनतकालीन साहित्य का विकास | Development of Sultanate Literature

सल्तनतकालीन साहित्य का विकास | Development of Sultanate Literature: भारतीय इतिहास की इस पोस्ट में सल्तनतकालीन साहित्य का विकास से संबंधित नोट्स एवं महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई गई है जो सभी परीक्षाओं के लिए बेहद ही उपयोगी एवं महत्वपूर्ण है

👉🏻 फुतूह-उस-सलातीन – इसामी
👉🏻 तबकात-ए-नासिरी – मिनहाज सिराज
👉🏻 शाहनामा – फिरदौसी
👉🏻 ताजुल मासिर – हसन निजामी
👉🏻 नूह सिपहर,, तुगलकनामा – अमीर खुसरो
👉🏻 मृगावती – कुतबन
👉🏻 मुन्तखब-उल-लुबाब – खाफी खाॅं
👉🏻 मुन्तखब-उत-तवारिख – बदायूॅनी
👉🏻 चंदायन – मुल्ला दाऊद
👉🏻 सियासतनामा – निजाम उल मुल्क तुसी
👉🏻 खैर-उल-मजलिस – हमीद कलन्दर
👉🏻 तारीख-ए-सुबुक्तगीन – बैहाकी
👉🏻 पृथ्वीराज रासो – चन्दबरदाई (पृथ्वीराज चैहान का दरबारी)
👉🏻 रेहला – इब्नबतूता (इसे दिल्ली का काजी बनाया गया)
👉🏻 तारीख-ए-फिरोजषाही – बरनी (षम्से-सिराज अफीफ ने भी इसी नाम से एक अन्य पुस्तक लिखी।)
👉🏻 तारीख-ए-मुबारकषाही – याहिया-बिन-सरहिन्दी (सैय्यद वंष के शासक मुबारकषाह के संरक्षण में लिखा।)
👉🏻 सिंध पर अरब आक्रमण का विस्तृत विवरण प्राप्त होता है – चचनामा से
👉🏻 मुहम्मद गौरी की भारतीय विजयों तथा नवस्थापित तुर्की राज्य का प्रत्यक्ष विवरण किस ग्रंथ में प्राप्त होता है – तबकात-ए-नासिरी
👉🏻 उस इतिहासकार का नाम बताईये जिसने भारत का विवरण बिना यहां आये हुए ही लिखा – षिहाबुद्दीन अल उमरी
👉🏻 किस एक इतिहासकार को मंगोलों द्वारा बंदी बना लिया गया था – अमीर खुसरो
👉🏻 बलबन की सार्वभौमिकता तथा राजकीय नीति को जानने के लिए मूल स्त्रोत है – बरनी की पुस्तक तारीख-ए-फिरोजषाही

यह भी पढ़ें>> दिल्ली सल्तनत (Delhi Saltanat)

👉🏻 संस्कृत स्त्रोतों से संग्रहीत तिब्ब-ए-सिकन्दरी का विषय था – आयुर्विज्ञान/चिकित्सा ग्रंथ, तिब्ब-ए-सिकन्दरी को सुल्तान सिकन्दर लोदी के प्रधानमंत्री मियाॅं भूआ ने लिखा था।
👉🏻 किस सुल्तान ने ‘गुलरूखी’ उपनाम से अनेक कविताएॅं लिखी – सिकन्दर लोदी
👉🏻 मध्यकालीन भारतीय इतिहास के फारसी स्त्रोत अधिकांषतः – दरबार की घटनाओं के बारे में था।
👉🏻 मध्यकालीन भारत का इतिहास किस भाषा में लिखा गया है – फारसी में (फारसी सल्तनत काल की राजकीय की भाषा थी।)
👉🏻 किस सुल्तान के शासनकाल में ‘रागदर्पण’ नामक भारतीय पुस्तक का फारसी में अनुवाद किया गया था – फिरोज तुगलक
👉🏻 प्रथम मुसलमान गौरवग्रंथ है – आदाब-उल-सलातीन
👉🏻 भारत में कागज पर लिखी सबसे पुरानी पाण्डुलिपि 1223-24 की है, जो मिली है – गुजरात से
👉🏻 फुतूहात-ए-फिरोजषाही का लेखक – फिरोजषाह तुगलक (आत्मकथा लिखने वाला एकमात्र सुल्तान)
👉🏻 किताब-उल-हिन्द/तहकीक-ए-हिन्द (इस पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद सचाउ ने किया है।) के लेखक का नाम – अलबरूनी
👉🏻 पद्मिनी की कहानी का उल्लेख किया गया है – मलिक मुहम्मद जायसी द्वारा शेरषाह के समय लिखा गया पद्मावत, अमीर खुसरो ने भी इस कहानी का अपनी रचना खजाईन-उल-फुतूह में इस कहानी का प्रतिकात्मक विवरण दिया है।
👉🏻 अमीर खुसरो ने किसके आदेष पर अपनी प्रसिद्ध मसनवी ‘आषिका’ लिखी थी – अलाउद्दीन खिलजी के पुत्र खिज्र खाॅं के आदेष पर, इस मसनवी में खिज्र खाॅ और गुजरात के राजा कर्ण की पुत्री देवलरानी की प्रेमकथा का वर्णन है।

History Topic Wise Notes & Important Question
सल्तनतकालीन साहित्य का विकास

Leave a Comment

error: Content is protected !!