तुगलक वंश | Tughlaq Dynasty Notes

तुगलक वंश | Tughlaq Dynasty Notes

History Study Material

तुगलक वंश | Tughlaq Dynasty: भारतीय इतिहास की इस पोस्ट में तुगलक वंश Tughlaq Dynasty (1320 – 1414) के नोट्स उपलब्ध करवाए गये है जो सभी परीक्षाओं के लिए समान रूप से उपयोगी एवं महत्वपूर्ण है tughlaq, tuglak, tughlak

मौहम्मद बिन तुगलक (1325 – 1351)

इसका मूल नाम जुना खाँ था, मौहम्मद बिन तुगलक ने निम्न योजनाएं बनाई जिसमें यह असफल रहा –

👉🏻 दो-आब के प्रदेश में कर वृद्धि।
👉🏻 सांकेतिक मुद्रा का प्रचलन → मुहम्मद बिन तुगलक के समय चाँदी का टका चलता था मुहम्मद बिन तुगलक ने चाँदी के टके के स्थान पर उसी मूल्य के तांबे का टका चलाया। बरनी ने कहा था कि ‘‘प्रत्येक हिन्दू का घर टकसाल बन गया था।’’
👉🏻 राजधानी परिवर्तन:- मुहम्मद बिन तुगलक ने दिल्ली के स्थान पर दौलताबाद को अपनी राजधानी बनायी।
👉🏻 खुरासान विजय की योजना बनाई।
👉🏻 मुहम्मद बिन तुगलक ने अनुपजाऊ या बंजर भूमि को उपजाऊ बनाने के लिए दीवान-ए-कोठी नामक एक कृषि विभाग बनाया।
👉🏻 मुहम्मद बिन तुगलक के आदेश पर उसके भतीजे मलीक खुसरों ने कराजल या कराचोल पर विजय प्राप्त की। इस विजय से उत्साहित होकर जब मलीक खुसरो ने तिब्बत के प्रदेश को आगे बढ़कर जीतने का प्रयास किया तो इस प्रयास में इस तुगलक सेना का समूल नाश हो गया। मात्र तीन सैनिक जीवित बचकर दिल्ली लौट सके थे।
👉🏻 मुहम्मद बिन तुगलक दिल्ली का पहला सुल्तान था जिसने होली दीपावली जैसे हिन्दू त्यौहार बनाये।
👉🏻 मुहम्मद बिन तुगलक पहला शासक हुआ जिसने हिन्दूओं के प्रति धार्मिक सहिष्णुता की उदार नीति अपनाई।
👉🏻 यह दिल्ली का या भारत का पहला शासक था जिसने घाटे का बजट अपनाया।
👉🏻 इसके समय में इब्वनेबतुका भारत की यात्रा पर आया था।
👉🏻 मुहम्मद बिन तुगलक के समय में सबसे ज्यादा विद्रोह हुए थे।
👉🏻 इसी समय 1336 में हरिहर और बूका नामक दो भाइयों ने दक्षिण भारत में विजय नगर साम्राज्य की स्थापना हुुई। इसी साम्राज्य में कृष्ण देव राय नामक प्रतापी राजा थे। कृष्ण देव राय नामक प्रतापी राजा के दरबार में 8 महान विद्वानों की एक परिषद थी जिसे अष्ट दिग्गज कहा जाता था।
👉🏻 मुहम्मद बिन तुगलक के समय दक्षिण भारत में बह्मनी नामक एक मुस्लीम राज्य की स्थापना अलाउद्दीन हसन बहमनसाह (हसन) ने की थी।
👉🏻 मुहम्मद बिन तुगलक के समय ही भारत में अमीरो का विद्रोह हुआ था। (Tughlaq Dynasty)

फिरोजशाह तुगलक (1351-1388)

👉🏻 फिरोजशाह तुगलक दिल्ली का पहला सुल्तान था जिसने ब्राह्मणों पर भी जजिया कर लगाया।
👉🏻 फिरोजशाह तुगलक को नहरे बनवाने का शौक था। दिल्ली का पहला सुल्तान था जिसने प्रमुख रूप से नहरे बनवाई।
👉🏻 फिरोजशाह तुगलक दासों का शौकिन था। इसने दासों के लिए एक अलग विभाग दीवान ए बन्दवा बनाया।
👉🏻 फिरोजशाह तुगलक ने दिल्ली में एक खेराती अस्पताल, बेरोजगार को रोजगार का नीलय तथा मुस्लिम लड़कियों का विवाह करवाने के लिए विवाह का विभाग खुलवाया।
👉🏻 इसने कई शहरों की स्थापना करवाई। जोनपुर फिरोजशाह, कोटला फिरोजशाह, हिसार फिरोजशाह, फतेहाबाद फिरोजशाह, फिरोजपुर था। सल्तनत काल में इसे बाग लगवाने का शौक था।
👉🏻 सल्तनत काल में एक मात्र फिरोजशाह तुगलक ऐसा शासक हुआ जिसने अपनी आत्म कथा लिखी। आगे चलकर मुगल बादशाह बाबर और जहाँगीर ने भी अपनी आत्म कथाएँ लिखी।
👉🏻 तुगलक वंश के अन्तिम सुल्तान मुहम्मद शाह के समय 1398 ई. में तैमुर लंक का भारत पर आक्रमण हुआ। तैमुर लंक ने इसी आक्रमण के समय राजस्थान के हनुमानगढ़ जीले में स्थित भठनेर के किले को जीता था। इस समय इस किले में रहने वाली हिन्दू महिलाओं के साथ-साथ मुस्लिम महिलाओं ने भी जोेेहर किया।
👉🏻 तैमुर लंक ने अपनी आम्तकथा भठनेर के किले को भारत वर्ष का सबसे सुदृढ़ किला बनाया है।
👉🏻 1221 मध्य एशिया मुस्लिम आक्रमणकारी चंगेज खाँन दिल्ली के सुल्तान इल्तुतमिस के समय भारत पर आक्रमण किया था।
👉🏻 तुगलक वंश के पतन के पश्चात् 1414 ई. में खीज्र खाँ ने दिल्ली में एक नए वंश की स्थापना की जिसे सैयद वंश या खीज्र वंश कहा जाता है।
👉🏻 1451 ई. में अफगान बहलोल लोदी ने दिल्ली पर अधिकार करके भारत में प्रथम लोदी वंश या अफगान वंश की स्थापना की।
👉🏻 बहलोल लोदी शकीं सुल्तान को पराजित करके जोनपुर राज्य को जीतकर अपने अधिकार में कर लिया था।
👉🏻 बहलोल लोदी के पश्चात् सिकन्दर लोदी शासक बना। जिसने 1504 ई. में आगरा शहर की स्थापना करवाकर आगरा को दिल्ली के स्थान पर अपनी राजधानी बनाया। इसकी स्थापना 1504 ई. में हुई। (Tughlaq Dynasty)
👉🏻 सिकन्दर लोदी के पश्चात इब्राहीम लोदी 1517 ई. में यह दिल्ली का
शासक बना। इसने 1526 तक शासन किया। यह दिल्ली का अन्तिम लोदी वंश का सुल्तान माना जाता है।
👉🏻 मैवाड़ के शासक सांगा 1517 ई. में खातोली (बून्दी) तथा 1518 में बाड़ी (धोलपुर) के युद्धों में पराजित किया था।
👉🏻 इब्राहीम लोदी के लोदी सरदार आलप खाँ लोदी तथा दोलत खाँ लोदी के निमन्त्रण पर बाबर ने भारत पर आक्रमण किया था।
👉🏻 21 अप्रेल, 1526 ई. के पानीपत के प्रथम युद्ध में बाबर ने इब्राहीम लोदी को पराजित किया इब्राहीम लोदी मारा गया। तत्पश्चात बाबर में दिल्ली तथा आगरा में अपना अधिकार कर लिया। भारत में मुगल वंश की स्थापना हुई।

History Topic Wise Notes & Question
Tughlaq Dynasty

 851 total views,  1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *